क्या स्टोनहेंज को बनाने के पीछे है किसी एलियन का हाथ?

0
443
Stonehenge England
Stonehenge England

Stonehenge England: स्टोनहेंज में दफ्न है कौन से राज?

Stonehenge England: दुनिया में कई अजूबे मौजूद हैं जिनके बारे में लोगों को काफी जानकारी है वहीं कुछ ऐसे भी अजूबे मौजूद हैं जिन्हें किसने बनाया, कब बनाया उन पर हमेशा से ही संदेह बना रहता है। इन्हीं अजूबों में से एक है इंग्लैंड का वो अजूबा (Stonehenge England) जिसे किसने बनाया और कैसे बनाया वो आज भी रहस्य का विषय बना हुआ है।

इंग्लैंड में स्तिथ इस अजूबे का नाम है स्टोनहेंज (Stonehenge England), जो इतने भारी भरकम पत्थरों की मदद से बना है कि इसे बिना तकनीक के इस्तेमाल से खिसकाया भी नहीं जा सकता, तो फिर कैसे इतने भारी पत्थर अपने आप ही इस जगह पर आ गए।

दरअसल ऐसा बताया जाता है कि इंग्लैंड में बना ये स्टोनहेंज (Stonehenge England) करीबन 5000 साल से भी ज्यादा पुराना है, तो अगर देखा जाए तो उस समय पर तकनीक इतनी विकसित नहीं थी कि इतने भारी भरकम पत्थरों को एक जगह से दूसरी जगह लेकर जाया जा सके।

वहीं कई लोगों का मानना है कि इसका निर्माण प्रागैतिहासिक काल में हुआ होगा, इसके साथ ही कुछ लोगों का ये भी मानना है कि इन विशाल पत्थरों से बना स्टोनहेंज (Stonehenge England) कांस्य युग में बनाया गया होगा। इस अद्भुत, खूबसूरत और रहस्यमयी जगह (Stonehenge England) को यूनेस्कों द्वारा विश्व धरोहर स्थानों में भी शामिल किया गया है।  

ये भी पढ़ें:
Heaven Gate China
स्वर्ग के द्वार तक पहुंचना है तो करनी होगी 999 सीढ़िया पार

ये रहस्यमयी जगह (Stonehenge England) इंग्लैंड के सबसे लोकप्रिय जगहों में से एक है जहां देश विदेश से कई लोग इन पत्थरों को देखने आते हैं। ये रहस्यमयी चट्टाने यहां कैसे आईं इन पर लगातार शोध जारी है। कई विषेशज्ञों द्वारा इन पत्थरों के यहां मौजूद होने पर कई दावे किए गए, इनमें से एक दावा ये है कि स्टोनहेंज (Stonehenge England) का निर्माण इंसानों द्वारा नहीं किया गया बल्कि एलियंस द्वारा किया गया है।

इन विषेशज्ञों का कहना है कि जिस समय पर स्टोनहेंज (Stonehenge England) का निर्माण कराया गया होगा उस समय पर न ही तकनीक इतनी विकसित थी कि ये विशाल पत्थर यहां लाए जा सके और जिस तरीके से इन पत्थरों को लगाया गया है उनके पीछे एक अलग प्रकार का गणित छिपा है जिसे उस समय के लोगों द्वारा लगाना नमुमकिन था।

ये भी पढ़ें:
Passenger Urinated on Woman in flight
फ्लाइट में शक्स ने किया बुजुर्ग पर पेशाब, ‘No Fly List’ में आया नाम

स्टोनहेंज (Stonehenge England) की चट्टानों की ऊंचाई की बात की जाए तो ये करीबन 23 फीट तक ऊंची है। ये सभी चट्टाने खड़े होकर एक गोलाकार बनाते हैं। वैज्ञानिकों का मानना है कि इन सभी चट्टानों का निर्माण करीबन 3000 से 2000 ईसा पूर्व के बीच में कराया गया होगा।

आपको बता दें कि ये चट्टाने (Stonehenge England) ब्लू स्टोन्स का इस्तेमाल करके बनाई गईं है और इन विशाल चट्टानों में से कुछ का वजन करीबन 50 टन तक है। तो ऐसे में ये एक बड़ा सवाल है कि आखिर कैसे इतने विशाल पत्थरों को एक जगह से दूसरी जगह तक लेजाया गया होगा।

इस जगह (Stonehenge England) को लेकर एक मान्यता ये भी है कि पहले इस जगह पर कई लोग अपनी बीमारी दूर करने आते थे। यानी की स्टोनहेंज (Stonehenge England) के इन पत्थरों में हीलिंग प्रॉपर्टीज हुआ करती थी। लोगों की ऐसी मान्यता थी कि इन पत्थरों को जो भी बीमार व्यक्ति छूंता था उनकी बीमारी छू मंतर हो जाती थी, लेकिन जैसे जैसे यहां भीड़ बढ़ती चली गई वैसे वैसे इन पत्थरों (Stonehenge England) का महत्व भी कम होता चला गया।   

ये भी पढ़ें:
Area 51
क्या एलियंस को यहां रखा जाता है बंदी बनाकर?

For latest news of Uttarakhand subscribe devbhominews.com