ये है एलियन आइलैंड, यहां पेड़ों से निकलता है खून!

Socotra Island Yemen
Socotra Island Yemen

Socotra Island Yemen: क्यों निकलती है इन पेड़ों से खून की धार?

Socotra Island Yemen: एक ऐसा द्वीप जहां की मिट्टी आपको किसी और द्वीप में देखने को नहीं मिलगी, यहां पाए जाने वाले पेड़, जीव जंतू भी आपको केवल यहीं दिखाई देगें, लेकिन ऐसा क्यों है, क्यों यहां के पेड़ इतने अजीबो गरीब तरीके से विकसित होते हैं और क्यों इन पेड़ों से खून की तरह दिखने वाला रस निकलता है और ऐसा कई हजारों सालों से होता आ रहा है। इस जगह पर अजीबो गरीब चीजें होने के कारण इसे एलियन आइलैंड (Socotra Island Yemen) के नाम से भी जाना जाता है।

ये आइलैंड (Socotra Island Yemen) यमन में मौजूद है जिसका नाम है सोकोट्रा आईलैंड। ये आइलौंड इतना अनोखा है कि यहां पाए जाने वाली हर एक चीज आपको कहीं और दिखाई नहीं देगी और अगर आप यहां आएंगे तो आपको ऐसा लगेगा कि मानों आप किसी और ग्रह पर आ गए हों। इस आइलैंड के इसी अनोखेपन के कारण इसे यूनेस्को द्वारा विश्व धरोहर में शामिल किया गया है।

आपको जानकर हैरानी होगी कि इतनी अजीबो गरीब और अनोखी जगह (Socotra Island Yemen) होने के बावजूद किसी को भी इस जगह के बारे में पहले कुछ भी नहीं पता था, यहां तक की यहां रहने वाले लोगों का भी बाकी के देशों से कोई संपर्क नहीं था, लेकिन फिर धीरे धीरे लोगों को इस जगह के बारे में मालूम पड़ा और आज ये जगह विश्व धरोहर के रूप में जानी जाती है।

ये भी पढ़ें:
Tunnel of Love
दुनिया की सबसे रोमांटिक जगह, यहां मांगी गई हर मुराद होती है पूरी

इस आइलैंड (Socotra Island Yemen) में आपको जो चीज़ें दिखाई देंगी वो चौंकाने वाली चीज़ें होंगी। इस जगह पर जो पेड़ दिखाई देते हैं वो करीबन करोड़ों साल पुराने पेड़ हैं और वो भी बहुत अजीब तरीके के पेड़ हैं। इन पेड़ों से खून की तरह दिखाई देने वाला रस निकलता है और फिर यहां के लोग इस रस को इक्कठा कर इससे एक खुशबूदार पदार्थ बनाते हैं।

socotra island
Source: Social Media

इस आइलैंड (Socotra Island Yemen) में पाए जाने वाले पहाड़, मिट्टी और जीव-जंतु काफी अलग हैं। इस आइलैंड में करीबन 800 दुर्लभ प्रजातियां मौजूद हैं जो आपको कहीं और देखने को नहीं मिलेंगी। ये अनोखा आइलैंड यमन से करीबन 340 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

यहां के लोग अब धीरे धीरे अपने आप को समय के हिसाब से विकसित कर रहे हैं। एक समय था कि यहां के लोगों के पास न ही फोन हुआ करता था और न बाहर की दुनिया से कोई सम्पर्क लेकिन आज यहां के लोगों के पास फोन भी है और इंटरनेट भी जिससे यहां के लोग भी अब बाकी के लोगों की तरह ही अपना जीवन यापन कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें:
rainbow mountain
इस पहाड़ में कैसे आए इंद्रधनुष के रंग?

For latest news of Uttarakhand subscribe devbhominews.com