इंद्रधनुष के रंग कैसे आए एक ही नदी में, वजह बेहद खूबसूरत

0
63
Liquid Rainbow River
Liquid Rainbow River

Liquid Rainbow River: कुदरत की अनुठी कला

Liquid Rainbow River: क्या आपने कभी कोई ऐसी नदी देखी है जो अपना रंग गिरगिट की तरह बदलती है, मौसम के बदते ही ये नदी भी अपना रंग बदल लेती हैं। मगर ऐसा होता क्यों है, क्या इस नदी के रंग बदलने के पीछे कोई रहस्य है या फिर कुदरत का कोई करिश्मा। अगर आप इस नदी (Liquid Rainbow River) को देखेंगे तो आपको लगेगा मानों खुद प्रकृति ने इस नदी में अलग अलग रंग किए हों।

कभी ये नदी (Liquid Rainbow River) हरे रंग की हो जाती है तो कभी पीली, कभी नीली तो कभी लाल, ये वाक्य सुनकर ही दिमाग में इतना सुंदर दृश्य आ रहा है अगर सामने से देखेंगे तो सोचिया कितना सुंदर लगेगा।

जिस रंग बदलने वाली नदी (Liquid Rainbow River) की हम बात कर रहे हैं वो कोलंबिया में बहती है जिसका नाम है कैनो क्रिस्टल्स। इस रंग बदती नदी की लंबाई करीबन 100 किलोमीटर है और इसकी चौड़ाई करीबन 20 मीटर है। इस नदी के रंग बदलने के कारण इसे लिक्विड रेनबो (Liquid Rainbow River) भी कहा जाता है और साथ ही कई पर्यटक कुदरत के इस खूबसूरत नजारे को देखने के लिए दूर दूर से यहां आते हैं।    

ये भी पढ़ें:
Jacob's Well
ये कुआं किसी भूल भुलैया से नहीं है कम?

अब आपको बताते हैं कि आखिरकार क्यों इस नदी का रंग मौसम बदलने के साथ ही बदल जाता है। दरअसल इस नदी में एक विशेष प्रकार का पौधा पाया जाता है जिसका नाम है मैकारैनिया क्लैवीगैरा। कहा जाता है कि इसी पौधे के कारण ही नदी अलग अलग मौसम में अपना रंग (Liquid Rainbow River) बदलती रहती है।

ज्यादातर वक्त इस नदी का रंग गुलाबी या फिर लाल रहता है। कभी इसका रंग हल्का गुलाबी होता है तो कभी गहरा, वहीं कभी नदी का रंग नीला हो जाता है, कभी हरा, कभी पीला तो कभी नारंगी।

कुदरत की इस सुंदरता (Liquid Rainbow River) को अगर आप भी देखना चाहते हैं तो इसके लिए सही वक्त है जून से लेकर नवंबर तक का महीना। इसके साथ ही इस जगह की खूबसूरती को बरकरार रखने के लिए यहां आप 7 लोगों से ज्याद के ग्रुप में नहीं जा सकते। इस जगह की खूबसूरती से आकर्षित होकर यहां आते तो कई लोग हैं लेकिन एक दिन में यहां केलव 200 लोग ही जा सकते हैं।

इस खूबसूरत नदी (Liquid Rainbow River) से करीबन 30 किलोमीटर की दूरी पर कोलंबिया का मिलिट्री कैंप भी है और आपको बता दें कि वर्ष 2000 में यहां कई ऐसे लोगों के समूह रहा करते थे जो हिसंक गतिविधियों को बढ़ावा देते थे, लेकिन अब यहां ऐसा कुछ नहीं है और अब यहां पर्यटक इस खूबसूरत जगह पर पिकनिक मनाने के लिए दूर दूर से आते हैं।

ये भी पढ़ें:
Hottest Place On Earth
यहां धरती उगलती है लावा और आसमान से बरसती है आग, फिर भी यहां रहते हैं लोग

For latest news of Uttarakhand subscribe devbhominews.com