यहां धरती उगलती है लावा और आसमान से बरसती है आग, फिर भी यहां रहते हैं लोग

0
46
Hottest Place On Earth
Hottest Place On Earth

Hottest Place On Earth: यहां जगह- जगह मौजूद हैं गड्ढ़े और इनमें से निकलता है लावा

Hottest Place On Earth: आपने कभी कोई ऐसी जगह देखी है जहां आसमान से पानी की जगह आग बरस रही हो और धरती भी आग उगल (Hottest Place On Earth) रही हो। यहां जगह जगह पर आपको गड्ढ़े नजर आएंगे और इनमें पिघलता हुआ लावा दिखाई देगा और आपको बता दें कि बावजूद इसके यहां लोग रहते हैं और अपना जीवन यापन करते हैं।

जिस जगह की हम बात कर रहें हैं वो दुनिया की सबसे गर्म जगह है और ये जगह समुद्र तल से करीबन सवा सौ मीटर नीचे है। ये जगह इथियोपिया के अफार क्षेत्र में है जिसका नाम है डानाकिल डिप्रेशन। इस जगह का साल भर का औसत तापमान 35 डिग्री सेल्सियस (Hottest Place On Earth) रहता है और यहां साल भर में केवल 100 से 200 मिलीमीटर ही बारिश होती है। अब इस बात से आप अंदाजा लगा सकते हैं कि इस जगह पर कितना गर्म (Hottest Place On Earth) होगा।

हैरानी तो तब होती है जब इतनी गर्मी (Hottest Place On Earth) होने के बावजूद भी यहां लोग रह रहे हों, मगर कैसे? यहां अगर कहीं से  पानी भी निकलता है तो वो तुरंत सूख जाता है, इस पूरे इलाके में ज्वालामुखी है जो आग उगलती है, फिर कैसे लोग यहां जी पा रहे हैं। अगर आप इस जगह पर चले गए तो आपको ऐसा लगेगा मानों आप किसी दूसरे ग्रह पर आ गए हों।

danakil depression
Source: Social Media

दरअसल जो लोग इस आग के रेगिस्तान (Hottest Place On Earth) में रहते हैं वो अफार समुदाय के लोग हैं, जिन्हें इस गर्म और रूखे माहौल में रहने की आदत हो गई है। आपको बता दें कि इस माहौल में यहां के लोगों को न ही ज्यादा भूख लगती है और न ही प्यास।

वहीं इस जगह पर आपको जगह जगह नमक की चट्टानें दिखाई देंगी और नमक ही यहां के लोगों की कमाई का एकमात्र और अहम जरिया है। यहां रहने वाले लोग इन नमक की चट्टानों को काटते हैं और इन्हें सबसे पास के मेकेल शहर के बाजार में बेचते हैं। आपको बता दें कि ये लोग ऊंटों और गधों में इस नमक को लादकर बाजार तक लेकर जाते हैं और मेकेल शहर तक पहुंचने में इन लोगों को करीबन 1 हफते का वक्त लगता है।   

ये भी पढ़ें:
Aliens in India
भारत के इस इलाके में हर महीने देखे जाते हैं एलियंस

आपको जानकर हैरानी होगी कि डानाकिल डिप्रेशन में केवल एक ही नदी का श्रोत है जिसका नाम है अवाश नदी। यहां के लोग और इनके पालतू जानवर इसी नदी पर ही जीवित हैं। ये नदी कभी समंदर तक का सफर तय ही नहीं कर पायी क्योंकि डानाकिल डिप्रेशन में इतना ज्यादा गर्म (Hottest Place On Earth) है कि ये नदी यहां आकर ही सूख जाती है। इस नदी के यहां सूखने के बाद इसकी तलहटी में नमक जम जाता है, जिसके बाद यहां के लोग इस नमक को इकट्ठा करके बाजार में बेचते हैं।    

डानाकिल डिप्रेशन की धरती के नीचे तीन टेक्टॉनिक प्लेट्स मिलती हैं, ये टेक्टॉनिक प्लेट्स हर साल 1 से 2 सेंटिमीटर खिसकती है। इन टेक्टॉनिक प्लेट्स के नीचे हमारे महाद्वीप और महासागर हैं। 

वहीं जिस प्रकार डानाकिल डिप्रेशन की जमीन खिसक रही है उससे साफ है की लाखों सालों बाद ये इलाका एक गड्ढ़े में तब्दील हो जाएगा और इस गड्ढ़े पर लाल सागर का पानी भर जाएगा जिससे ये जगह एक समुद्र के रूप में जानी जाएगी।

ये भी पढ़ें:
Talakadu Mystery
कर्नाटक का श्रापित रेगिस्तान, क्या है रहस्य?

For latest news of Uttarakhand subscribe devbhominews.com