यहां के बच्चे तक जादू से कर सकते हैं आपको गायब

Black Magic Village
Black Magic Village

Black Magic Village: मुगलों की सेना को तक कर दिया था यहां के लोगों ने गायब 

Black Magic Village: आपने काले जादू के बारे में तो सुना ही होगा लेकिन आपको शायद ये मालूम नहीं होगा कि काले जादू की उत्पत्ति हुई कहां से है, भारत में एक ऐसा गांव है जहां के लोग केवल काला जादू ही करते हैं, ये जब बीमार पड़ते हैं तो इन्हें किसी दवा की जरूरत नहीं होती बल्की जादू से ही ये किसी भी इंसान को ठीक कर सकते हैं, इस गांव के लोगों ने जादू से मुगलों की सेना को तक गायब कर दिया था, कौन हैं ये लोग और कहां से इन्होंने ये जादू सीखा इसी पर आज हम बात करेंगे।

असम की राजधानी गुवाहाटी के मोरीगांव जिले का एक छोटा सा गांव है मायोंग। ये गांव छोटा जरूर है लेकिन इस गांव में रहने वाले लोगों के कारनामें काफी बड़े हैं। इस गांव को भारत की काला जादू (Black Magic Village) राजधानी के नाम से भी जाना जाता है।

सबसे पहले तो इस भूतिया जगह के नाम पर ही बात कर लेतें हैं। कहा जाता है कि इसका नाम मायोंग (Black Magic Village) संस्कृत शब्द माया से बना है जिसका मतलब होता है भ्रम। यानी की यहां के लोग आपको एकपल में भ्रमित कर सकते हैं, गायब कर सकते हैं यहां तक की किसी भी जानवर में भी तबदील कर सकते हैं।

Black Magic Village in assam

ये गांव ब्रह्मपुत्र नदी के तट पर बसा है, जहां बड़े से लेकर छोटे छोटे बच्चों को तक जादू और टोने-टोटके के बारे में ज्ञान है। इस गांव (Black Magic Village) के लोग अपना राजा भीम के पुत्र घटोत्कच को मानते हैं, कहा जाता है कि घटोत्कच मायोंग के थे और यहीं से उन्हें जादुई शक्तियों का ज्ञान भी हुआ था, इसके बाद वह महाभारत में युद्ध लड़ने भी गए थे।

गांव के सभी लोगों को काले जादू (Black Magic Village) का ज्ञान तो है ही साथ ही वो इस विद्या का अभ्यास भी करते हैं। यहां के बच्चे काला जादू ऐसे करते हैं मानों कोई खेल खेल रहे हों। इस गांव में जब किसी की तबीयत खराब होती है तो ये लोग कोई दवाई नहीं खाते बल्की तंत्र विद्या से ही किसी भी इंसान को ठीक कर देते हैं।

यदी किसी इंसान को किसी भी प्रकार का दर्द है तो ये लोग उसे ताम्बे की थाली से ठीक कर देते हैं। इनका कहना है कि ये ताम्बे की थाली को उस जगह पर रखते हैं जहां पर व्यक्ति को दर्द हो रहा होता है। इसके बाद ये थाली से ही उस जगह को दबाते हैं और ऐसा करने पर दर्द पलभर में छू मंतर हो जाता है। ग्रामीणों का कहना है कि ऐसा करने में भूत-प्रेत उनकी मदद करते हैं।  

ये भी पढ़ें:
Burj Khalifa
बुर्ज खलीफा का बिजली का बिल देख उड़े शेख के होश

इसके साथ ही यहां के लोग हाथ की रेखाएं पढ़ने में भी सक्षम हैं। ये लोग सीपियों और टूटे हुए कांच के टुकड़ों से किसी भी व्यक्ति का भविष्य बताने का दावा करते हैं। गांव वालों की मानें तो कई पुराने संत महात्मा और चुड़ैलें अभी भी मायोंग (Black Magic Village) के जंगलों में तंत्र विद्या का अभ्यास करते हैं।

इस गांव को लेकर एक कहानी भी प्रचलित है और वो यह है कि 1332 ईस्वीं में मुगल बादशाह मोहम्मद शाह द्वारा असम पर कब्जा करने के लिए बादशाह ने अपने घुड़सवारों की एक सेना को असम भेजा था। उस वक्त जैसे ही मुगलों की सेना मायोंग (Black Magic Village) की ओर बढ़ ही रही थी कि तभी मायोंग के जादूगरों ने जादू से एक ऐसी दीवार खड़ी कर दी जिसे सैनिकों द्वारा जब पार करने की कोशिश की गई तो पूरी की पूरी सेना पलभर में ही गायब हो गई और उसके बाद कभी नहीं मिली।

आपको बता दें कि मायोंग (Black Magic Village) के पास ही एक बूढ़ा मायोंग भी है और इसी जगह को काले जादू का केंद्र भी कहा जाता है। इस जगह पर दो कुंड है, एक है अष्टदल कुंड और दूसरा है योनि कुंड। अष्टदल कुंड में बौद्ध लोग तंत्र विद्या पर सिद्धी पाते हैं वहीं योनि कुंड में हिन्दू, तंत्र विद्या पर सिद्धी पाते हैं।    

ये अनोखी जगह और यहां के अनोखे लोग धीरे धीरे टूरिस्ट्स को अपनी ओर खींचते जा रहे हैं, ऐसा करते हुए ये जगह एक टूरिस्ट स्पॉट बन रहा है। तो अगर आप भी एक ऐसी जगह को एक्सप्लोर करना चाहते हैं जो खतरों से भरी और कई रहस्यों से भरी है तो इस जगह पर जरूर जाएं।  

मायोंग गांव असम (Black Magic Village) की राजधानी गुवाहाटी से करीबन 40 किलोमीटिर दूर है। यहां आने के लिए आपको गुवाहाटी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर उतरना होगा और अगर आप सड़क मार्ग से आ रहे हैं तो आप मायोंग गांव के सबसे नजदीक रेलवे स्टेशन जगीरोड रेलवे स्टेशन पर उतर सकते हैं।

ये भी पढ़ें:
Viral Video of Girls
नाचते-नाचते फटी जमीन और 6 लड़कियां समा गईं जमीन में, वीडियो वायरल

For latest news of Uttarakhand subscribe devbhominews.com