क्या हुआ जब निकाला गया इस श्रापित मम्मी को कब्र से बाहर

0
175

Tutankhamun Mummy: इस मम्मी को छूने वाले हर इंसान की चली गई थी जान

Tutankhamun Mummy: ये दुनिया कई रहस्यों से भरी हुई है, जिनके रहस्यों पर से पर्दा उठाने के लिए लोग कुछ न कुछ करते ही रहते हैं, लेकिन इन रहस्यों में से कई रहस्य ऐसे भी होते हैं जिन पर से अगर कोई पर्दा उठाने की कोशिश करता है तो उन्हें अपनी जान से धोना पड़ता है, यानी की कोई भी व्यक्ति इन रहस्यों से पर्दा नहीं उठा पाता है।

इन्हीं रहस्यों में से एक है मिस्र की धरती में डबा वो रहस्य (Tutankhamun Mummy) जिस पर से जब पर्दा उठाने की कोशिश की गई तो इसने कई लोगों की जाने ले लीं। ये राज है उस मम्मी (Tutankhamun Mummy) का जिसे जिस भी व्यक्ति ने छूआं उसकी जान चली गई। ये भयानक मम्मी है मिस्र के सबसे कम उम्र के राजा की जिसका नाम था तूतेनखामून (Tutankhamun Mummy).

तूतेनखामुन की कब्र (Tutankhamun Mummy) करीबन 3200 सालों से जमीन के अंदर दफ्न थी लेकिन 1922 में जब तूतेनखामुन की कब्र को खोजा गया तो जिसने भी इस कब्र को खोदा उन सभी को अपनी जान से हाथ गवाना पड़ा। इस कब्र को ब्रिटिश पुरातत्ववेत्ता हॉवर्ड कॉर्टर द्वारा खोजा गया था।

ऐसा कहा जाता था कि तूतेनखामून की कब्र (Tutankhamun Mummy) के नीचे भारी मात्रा में खजाना दबा हुआ है। तूतेनखामून की कब्र (Tutankhamun Mummy) जब खोदी गई तो वहां उनकी कब्र के नीचे कुछ सीढ़ियां दिखाई दीं, जिसके बाद पुरातत्ववेत्ताओं द्वारा इस द्वार को खोला गया और उस कमरे तक जाया गया जहां ये बेशकीमती खजाना मौजूद था।

ये भी पढ़ें:
Terracotta Army
Terracotta Army: जमीन में दफन हजारों सैनिक

हॉवर्ड कॉर्टर और उनकी टीम द्वारा तूतेनखामून की कब्र (Tutankhamun Mummy) को हटाकर इस खजाने को निकाल लिया गया और इसके बाद शुरू हुआ मौत का खेल। दरअसल कब्र खोदने जा रहे इन सभी लोगों को पहले ही चेतावनी दी जा चुकी थी। ये चैतावनी थी मकबरे के दरवाजे पर मिस्र भाषा में लिखे गए कुछ शब्द।

मिस्र भाषा में लिखी गई इस चेतावनी में साफ साफ लिखा गया था कि जो भी व्यक्ति राजा तूतेनखामून की शांति को भंग करेगा, उसे अपनी जान से हाथ धोना पड़ेगा, लेकिन बावजूद इसके पुरातत्ववेत्ताओं द्वारा मकबरे को खोला भी गया, इसके बाद कब्र खोदी गई और फिर बेशकीमती खजाना भी यहां से निकाल लिया गया।

बस फिर क्या था जिस किसी ने भी इस काम में हॉवर्ड कॉर्टर की मदद की उन सभी की मौत होती चली गई। यहां तक की जिस व्यक्ति ने हॉवर्ड कॉर्टर को तूतेनखामून की कब्र (Tutankhamun Mummy) और खजाने को ढूढ़ने का काम दिया था उसकी भी कुछ महीनों बाद रहस्यमयी तरीके से मौत हो गई थी, इनका नाम था लॉर्ड जॉर्ज कारनारवन और इन्होंने ही सबसे पहले तूतेनखामून की मम्मी (Tutankhamun Mummy) को छुआ था, जिसके बाद इनकी मौत हो गई।

इसके बाद जब तूतेनखामुन की मम्मी (Tutankhamun Mummy) को देखने लोग आने लगे तो जिस किसी ने भी इस मम्मी को देखा उनकी या तो रहस्यमयी तरीके से मौत हो गई या फिर वह लोग पागल हो गए। इस मम्मी को देखने के लिए मिस्र के राजकुमार अली कामिल और उनकी पत्नी भी गए, जिसके बाद उनके साथ भी कुछ अजीब सी घटना घटी।

इस मम्मी (Tutankhamun Mummy) को देखने के बाद जब राजकुमार और उनकी पत्नी वापिस अपने महल पहुंचे तो राजकुमार की पत्नी ने अचानक राजकुमार की हत्या कर डाली।

इन सभी मौतों के बाद हॉवर्ड कॉर्टर ने सरकार से इस मम्मी (Tutankhamun Mummy) को वापिस अपनी जगह पर रखने की मांग की और तूतेनखामून की मम्मी (Tutankhamun Mummy) को वापिस उसी मकबरे में दफना दिया गया जहां से इसे निकाला गया था। लेकिन कुछ सालों बाद लॉर्ड जॉर्ज कारनारवन की बेटी के आदेश पर तूतेनखामून की मम्मी को वापिस कब्र से बाहर निकाला गया और फिर इस ताबूत को मिस्र से लंदन लाया गया।

तूतेनखामून की इस मम्मी (Tutankhamun Mummy) को लंदन के एक म्यूजियम में रखा गया। तूतेनखामून की इस मम्मी को देखने के लिए जॉर्ज कारनारवन की बेटी लेडी एवलिन रोज यहां आती थीं, इसके बाद एक दिन जैसे ही लेडी एवलिन मम्मी को देखकर बाहर निकलीं वैसे ही उन्हें दिल का दौरा पड़ा जिसके बाद उनकी भी मौत हो गई।

इन सभी घटनाओं के बाद ये साफ हो गया था कि तूतेनखामून की मम्मी (Tutankhamun Mummy) एक श्रापित मम्मी है जिसे जिस किसी ने भी छुआ या फिर देखा उसकी रहस्यमयी तरीके से मौत हो गई।

ये भी पढ़ें:
Xin Zhui Mummy
जब 2000 साल पुरानी मम्मी की नसों में दौड़ रहे खून को देख रह गए सभी दंग

For latest news of Uttarakhand subscribe devbhominews.com