Artificial Island Palm Jumeirah क्या धीरे धीरे समा रहा है समुद्र में?

0
132

Artificial Island Palm Jumeirah में रह रहे लोगों की जिंदगी में मंडरा रहा है खतरा!

देहरादून ब्यूरो। क्या दुबई के समुद्र में बसे घर धीरे धीरे समुद्र में समाते जा रहे हैं? क्या वहां रह रहे लोगों की जिंदगी पर खतरा मंडरा रहा है? अगर हां तो फिर क्यों ये लोग समुद्र के बीच में बनाए गए artificial islands में बस रहे हैं। वहीं आप में से कई लोगों के मन में ये आ रहा होगा कि समुद्र के बीच में आखिरकार ये घर और बड़ी बड़ी बिल्डिंग्स कैसे बनाई जा रही हैं।

क्यों बनाया गया दुबई में Artificial Island Palm Jumeirah?

palm jumeirah island, artificial island in dubai, palm jumeirah island in dubai, dubai artificial island

दुनिया में दिन ब दिन बढ़ती आबादी को देखते हुए और अधिकतर लोगों का शहर की ओर रुख करने के कराण शहरों में रहने के लिए जगह कम पड़ती जा रही है इसी को देखते हुए कई देश समुद्र के बीच में ही Artificial Island बनाकर उनमें बस रहे हैं। मगर इन्हें कैसे बनाया गया ये आपको बताते हैं। आज जिस Artificial Island की हम बात कर रहे हैं वो दुबई में स्थित है जिसका नाम है Palm Jumeirah. ये आईलैंड दिखने में बिलकुल Palm Tree की तरह दिखाई देता है और इसको बनाने में कुल 13 अरब डॉलर की लागत आई है।

इस Artificial Island Palm Jumeirah पर एक छोटी सी प्रॉपर्टी भी करोड़ो की है। अब बात करते हैं कि इस Artificial Island को आखिरकार कैसे बनाया गया। समुद्र में इस Artificial Island Palm Jumeirah को बनाने के लिए सबसे पहले तो बड़ी बड़ी चट्टानों को समुद्र में डाला गया और वो भी कोई ऐसी वैसी चट्टानों का इस्तेमाल नही किय़ा गया बल्की मध्य प्रदेश से लाए गए ग्रेनाइट के पत्थरों का इस्तेमाल किया गया है। मध्य प्रदेश के इन्हीं पत्थरों से Palm Jumeirah की नींव रखी गई। Artificial Island Palm Jumeirah को बनाने के लिए दुबई ने दुनिया भर से कई काबिल इंजिनियर्स को इस प्रोजेक्ट में शामिल किया था।

कैसे बनाया गया Palm Jumeirah Island को?

palm jumeirah island, subai arificial island, palm jumeirah island dubai, palm jumeirah dubai

Artificial Island Palm Jumeirah को बनाने में पत्थरों के साथ साथ रेत का भी इस्तेमाल किया गया है। इसमें कुल 55 लाख वर्ग मीटर ग्रेनाइट पत्थरों का इस्तेमाल किया गया है और 9 करोड़ 40 लाख वर्ग मीटर रेत इस्तेमाल की गई है। आपको बता दें कि इस आईलैंड को बनाने के लिए दुबई के मैदानी इलाकों में पाई जाने वाली रेत का इस्तेमाल नही किया गया है बल्की इन आईलैंड्स को बनाने के लिए फारस की खाड़ी से रेत निकालकर इस्तेमाल की गई है क्योंकि दुबई में पाई जाने वाली रेत पानी में आसानी से घुल जाती है। इस आईलैंड की लंबाई और चौड़ाई की बात की जाए तो ये 5 किलोमीटर लंबी और 5 किलोमीटर चौड़ी है।

इस आईलैंड को बनाने में इस्तेमाल हुए पत्थर ऐसे पत्थर हैं जो पानी में भी खराब नही हो सकते। यहां तक की जिस समय इस Artificial Island Palm Jumeirah को बनाया जा रहा था उस समय satellite से इसकी बनावट की कड़ी निगरानी की जा रही थी ताकी ये आईलैंड हूबहू palm tree की तरह दिखाई दे। लेकिन सवाल ये खड़ा होता है कि इतनी Advance technology इस्तेमाल करने के बाद भी क्यों ये Artificial Island दिन ब दिन धीरे धीरे समुद्र में समाते जा रहे हैं।

ये भी जानिए: अस्मत जनजाति दुश्मन को मारकर क्यों खाते हैं उनकी खोपड़ी में खाना

Artificial Island Palm Jumeirah के बारे में NASA का क्या है कहना?

Nasa के मुताबिक दुबई का Palm Jumeirah Island हर साल 5 मिलीमीटर तक समुद्र में समा रहा है। क्योंकि जिस फारस की खाड़ी से ये रेत निकाली गई वो अब धीरे धीरे वापस अपनी जगह पर जा रही है। वहीं कई रिसर्चर्स का ये भी कहना है कि जब कभी समुद्र के अंदर किसी भी प्रकार की हलचल होगी या फिर इन artificial islands की जमीन पर अगर कोई प्रसेर पड़ेगा तो यहां बने हुए घर, फार्म हाउस और बड़ी बड़ी बिल्डिगंस समुद्र में पलभर में समा जाएगी।

क्यों दुबई के The World Island को पूरा नही बनाया जा सका?

world island dubai, dubai world island, artificial world island in dubai

वहीं इसी आईलैंड के पास में एक और artificial island बनाया गया था जिसका नाम था The World Island. इसका नाम The World Island इसलिए रखा गया क्योंकि इन आईलैंड्स के ग्रुप को जब ऊपर से देखा गया तो ये बिलकुल world map की तरह दिखाई दे रहा था। मगर ये आईलैंड आजतक पूरा ही नही हो पाया क्योंकि इसमें भी इस्तेमाल की गई रेत फारस की खाड़ी से निकाली गई रेत थी जो वापिस अपनी जगह पर बैठती जा रही है और इसी कारण ये आईलैंड कभी पूरा ही नही हो पाया। तो क्या इस तरह के आईलैंड्स पर करोड़ो रुपय निवेश करना और जीवन यापन करना सुरक्षित है?

ये भी जानिए: मुगल हरम की महिलाएं क्यों थी मर्दों के लिए पागल?