पृथ्वी से मिलते जुलते मंगल ग्रह पर रहना क्यों है नामुमकिन?

0
478
Mars Planet
Mars Planet

Mars Planet: पृथ्वी और मंगल ग्रह के बीच क्या हैं समानताएं?

Mars Planet: ग्रहों की अजीबो गरीब दुनिया को समझना बहुत मुश्किल है, लेकिन फिर भी विज्ञान की तरक्की के साथ साथ हमारे सौरमंडल के कई ग्रहों की जानकारी आज हमारे पास हैं। आज इन्हीं ग्रहों में से एक ग्रह की बात करेंगे जो पृथ्वी की तरह ही स्थलीय धरातल वाला ग्रह है जिसका नाम है मंगल ग्रह (Mars Planet). मंगल ग्रह को लाल ग्रह के नाम से जाना जाता है, इसके पीछे का कारण है इस ग्रह के लाल रंग का होना।   

मंगल ग्रह (Mars Planet) भले ही स्थलीय धरातल वाला ग्रह है, यहां रेगिस्तान है, घाटियां हैं, ज्वालामुखी है, ध्रुवीय बर्फीली चोटियां हैं मगर यहां कोई भी इंसान नहीं रह सकता। क्यों धरती के सामान ही होने के बावजूद भी मंगल ग्रह (Mars Planet) में जीवन संभव नहीं है।

दरअसल पृथ्वी को सूर्य की एक परिक्रमा पूरी करने में 365 दिन और 6 घंटे का वक्त लगता है, वहीं मंगल ग्रह (Mars Planet) को सूर्य की परिक्रमा पूरी करने में 687 दिन का वक्त लगता है जो की धरती का दोगुना है यानी की पृथ्वी में 1 साल 365 दिन के बराबर होता है वहीं मंगल ग्रह (Mars Planet) में 1 साल 687 दिनों के बराबर होता है।

ये भी पढ़ें:
Frank Lentini
तीन टांगों, चार पैरों और दो गुप्तांगों के साथ कैसे जीया इस व्यक्ति ने जीवन?

जिस प्रकार धरती के कई इलाकों में कंपकंपा देनी वाली ठंड होती है उसी प्रकार मंगल ग्रह (Mars Planet) में जान से मार देनी वाली ठंड होती है। यहां के तापमान की बात करें तो गर्मियों के मौसम में मंगल ग्रह (Mars Planet) का तापमान करीबन 30 डिग्री सेल्सियस रहता है वहीं सर्दियों के मौसम में ये तापमान शून्य से घटकर 130 डिग्री सेल्सियस तक चला जाता है। अब इस तापमान से ही आप अंदाजा लगा सकते हैं कि यहां की ठंड किसी को भी जमा कर पत्थर बना सकती है।

वहीं पृथ्वी और मंगल ग्रह (Mars Planet) पर गुरुत्वाकर्षण बल भी अलग- अलग है। अगर धरती पर किसी व्यक्ति का वजन 80 पाउंड होगा तो उसी व्यक्ति का वजन मंगल ग्रह (Mars Planet) पर करीबन 25 पाउंड होगा। वहीं पृथ्वी के पास केवल एक चंद्रमा है लेकिन मंगल ग्रह के पास 2 चंद्रमा हैं, जिनका नाम है डेमियोस और फोबोस।

वहीं इन सभी असमानताओं के बीच पृथ्वी और मंगल ग्रह के बीच जो चीज एक दूसरे से बिलकुल मिलती है वो है इसके मौसम। पृथ्वी की तरह ही मंगल ग्रह (Mars Planet) पर भी चार मौसम देखने को मिलते हैं- पतझड़, ग्रीष्म, शरद और शीत। मगर ये मौसम पृथ्वी की तुलना में दोगुने वक्त तक रहता है क्योंकि मंगल ग्रह में 1 साल 687 दिन का होता है।

इसके साथ ही मंगल ग्रह (Mars Planet) भी धरती की तरह ही 4 परतों से मिलकर बनी है। इसकी पहली परत को पर्पटी कहा जाता है, जो की बेसाल्टिक पत्थरों से बनी है। दूसरी लेयर है मैंटल जो कि सिलिकेट पत्थरों से बनी है और तीसरी और चौथी लेयर को बाहरी कोर और आंतरिक कोर कहा जाता है, जिनके बारे में कहा जाता है कि ये धरती के कोर के समान ही निकल और लोहे से बने हैं।  

ये भी पढ़ें:
Churu Fort
जब दुश्मन सेना को हराने के लिए उनपर दागे गए चांदी के गोले

For latest news of Uttarakhand subscribe devbhominews.com