इसरो बनाएगा ये रिकार्ड, 2023 में इतने अंतरिक्ष अभियान करेगा

0
248
ISRO 2023

Uttarakhand Devbhoomi Desk: भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने सोमवार को जियोस्टेशनरी सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल (GSLV) के जरिए एक (ISRO 2023) नेविगेशन सैटेलाइट लॉन्च किया। प्रक्षेपण के बाद इसरो ने कहा कि जीएसएलवी-एफ12 ने नौवहन उपग्रह एनवीएस-01 को उसकी निर्धारित कक्षा में सफलतापूर्वक स्थापित कर दिया। ISRO ने सुबह 10:42 बजे श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से 51.7 मीटर के रॉकेट का उपयोग करके NVS-01 लॉन्च किया।

मिशन इस साल इसरो का तीसरा सफल मिशन साबित हुआ है। यह उपग्रह कहीं भी सबसे सटीक वास्तविक समय स्थिति प्रदान करेगा। इससे पहले इसरो (ISRO 2023) दो सफल मिशन फरवरी और मार्च में भी अंजाम दे चुका है। इसरो ने और भी कई बड़े मिशन की योजना बनाई है। इस न्यूजलेटर में हम आपको बताते हैं कि कैसे 2023 इसरो के लिए महत्वपूर्ण साबित हो रहा है।

ISRO 2023: इसरो का इस साल ये पहला अभियान

इसरो ने इस साल 10 फरवरी को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा से (ISRO 2023) अपने सबसे छोटे रॉकेट एसएसएलवी-डी2 की दूसरी विकास उड़ान सफलतापूर्वक लॉन्च की। SSLV-D2 ने तीन उपग्रहों के साथ प्रक्षेपण किया। 120 टन वजनी और 34 मीटर ऊंचे SSLV-D2 ने सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र के लॉन्च पैड से उड़ान भरी।

SSLV-D2 ने चेन्नई स्थित अंतरिक्ष स्टार्टअप SpaceKidz के पृथ्वी अवलोकन उपग्रह, JANUS-1 और AzaadiSAT-2 को उनकी इच्छित कक्षाओं में सफलतापूर्वक लॉन्च किया। बता दें कि JANUS-1 उपग्रह अमेरिकी कंपनी Antaris का है। इस बीच, सैटेलाइट आज़ादी सेट-2 चेन्नई स्थित अंतरिक्ष स्टार्टअप स्पेसकिड्ज़ का है, और तीसरा, ईओएस-07, इसरो द्वारा निर्मित उपग्रह है।

ये भी पढ़ें:
Ganga Dussehra 2023
गंगा दशहरा का पर्व आज, हरिद्वार में श्रद्धालुओं ने लगाई आस्था की डुबकी

ISRO 2023: इसरो ने किया ये रिकार्ड अपने नाम

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO 2023) ने इतिहास रच दिया जब उसने 26 मार्च को 36 वनवेब इंटरनेट उपग्रहों को अंतरिक्ष में भेज दिया था। रॉकेट को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा में सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से भी लॉन्च किया गया था।

5,805 किलोग्राम के रॉकेट ने यूके स्थित नेटवर्क एक्सेस एसोसिएटेड लिमिटेड (वनवेब) के 36 उपग्रहों को अंतरिक्ष में पहुंचाया। इसरो ने रॉकेट मिशन एलवीएम3-एम3/वनवेब इंडिया-2 मिशन का कोडनेम रखा है। प्रक्षेपण के ठीक 19 मिनट बाद उपग्रह पृथक्करण प्रक्रिया शुरू हुई। जिसके बाद 36 उपग्रह अलग-अलग चरणों में अलग हो गए। यह सफल लॉन्च दुनिया भर में अंतरिक्ष ब्रॉडबैंड इंटरनेट पहल में योगदान देगा।

22 अप्रैल को, भारत ने अपने PSLV C-55 का उपयोग करके सिंगापुर से दो उपग्रहों को अंतरिक्ष में प्रक्षेपित किया। भारत ने आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा में सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से पीएसएलवी सी-55 के साथ सिंगापुर के टेलीओस-2 और लुमिलाइट-4 को अंतरिक्ष(ISRO 2023)  में भेजा है। इस प्रक्षेपण के बाद, यह न केवल विशेषज्ञों को मौसम की सटीक जानकारी प्राप्त करने में मदद करता है, बल्कि समुद्री सुरक्षा के क्षेत्र में भी मदद करता है।

भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो (ISRO 2023) इस साल के अंत तक गगनयान मिशन लॉन्च करने की योजना बना रही है। क्रूड लॉन्च ऑर्बिटल मॉड्यूल सिस्टम को प्रदर्शित करने के लिए पहले अनक्रूड मिशन का उपयोग किया जाएगा। अगर भारत इस मिशन में कामयाब हो जाता है तो भारत मानव अंतरिक्ष यान में शीर्ष देशों में शुमार हो जाएगा।गगनयान मिशन तीन चरणों में पूरा होगा। इसका पहला चरण ड्राइवरलेस होगा। हालांकि, दूसरे चरण में रोबोट भेजे जाएंगे और अंतिम चरण में तीन अंतरिक्ष यात्रियों को अंतरिक्ष में भेजा जाएगा।

चंद्रयान मिशन-3 को साल का सबसे बड़ा अंतरिक्ष मिशन बनाया जाएगा

29 मई को जीएसएलवी-एफ12 द्वारा नेविगेशन उपग्रह एनवीएस-01 के सफल प्रक्षेपण के बाद इसरो ने पुष्टि की है कि चंद्रयान-3 को जुलाई में लॉन्च किया जाएगा। हालांकि किसी सटीक तारीख की घोषणा नहीं की गई है, लेकिन संगठन ने स्पष्ट कर दिया है कि यह जुलाई में लॉन्च होगा।

सूत्रों के मुताबिक, सब कुछ ठीक रहा तो चंद्रयान-3 को जुलाई के दूसरे हफ्ते में लॉन्च (ISRO 2023) कर दिया जाएगा। चंद्रयान-3 को एलवीएम-3 से श्रीहरिकोटा से लॉन्च किया जाएगा। यह चांद की सतह पर उतरेगा और वहां परीक्षण करेगा। यह मिशन भारत के लिए बहुत मायने रखता है।

ये भी पढ़ें:
IPL final 2023
कल बारिश ने जीता था मैच, लेकिन आज कौन जीतेगा?

For latest news of Uttarakhand subscribe devbhominews.com