हरिद्वार कुंभ में कोरोना जांच का फर्जीवाड़ा: निलंबित दो अधिकारी बहाल

0
76
Haridwar Kumbh Mela 2021

Uttarakhand Devbhoomi Desk: हरिद्वार कुंभ 2021 (Haridwar Kumbh Mela 2021) के दौरान कोरोना टेस्टिंग में हुए फर्जीवाड़े से एक बड़ी खबर सामने आ रही है। आपको बता दें कि कुंभ मेला 2021 के दौरान कोविड जांच फर्जीवाड़े में निलंबित दो अधिकारी डॉ. एनके त्यागी और डॉ. अर्जुन सिंह सेंगर दोषी नहीं पाए गए। ऐसे में डॉक्टरो की बहाली के आदेश शासन की तरफ से जारी किए गये हैं। बता दें कि अब फर्जीवाड़े में स्वास्थ्य विभाग की ओर से कमेटी गठित कर हरिद्वार जिले के तत्कालीन सीएमओ की जांच की जाएगी।

गौरतलब है कि सरकार ने कोविड महामारी के बीच 1 से 30 अप्रैल तक कुंभ मेला की अधिसूचना जारी की थी। लेकिन इसके लिए मेले में आने वाले श्रद्धालुओं की कोविड निगेटिव रिपोर्ट अनिवार्य की गई थी।

यह भी पढ़े:
Shraddha Murder Case update
Shraddha Murder Case update: पुलिस को आरोपी आफताब के Psycho Killer होने की आशंका!

Haridwar Kumbh Mela 2021: ऐसे हुआ फर्जीवाड़े का खुलासा

फर्जीवाड़े का खुलासा हरियाणा के एक व्यक्ति की शिकायत के बाद हुआ। बता दें कि शिकायतकर्ता के मोबाइल पर कोविंड जांच (Haridwar Kumbh Mela 2021) कराने का मैसेज आया, लेकिन उसने बताया कि वह कुंभ मेले में आया ही नहीं था। फिर इसकी शिकायत आईसीएमआर को भेजी गई। ऐसे में जब राज्य कोविड कंट्रोल रूम ने मामले की प्रारंभिक जांच की तो 1 लाख से अधिक सैंपलों में एक ही मोबाइल नंबर और पते दर्शाए गए। मामले को गंभीर से लेते हुए सरकार ने पाये गये दोषियों पर कार्रवाई की।

यह भी पढ़े:
Teachers Service Terminated
फर्जी डिग्री वाले मास्टर साहब की सेवा हुई समाप्त, मुकदमा भी हुआ दर्ज

बताते चले कि इस मामले की जांच (Haridwar Kumbh Mela 2021) के लिए डीएम ने कमेटी गठित कर जांच की। उसके बाद अगस्त 2021 में शासन ने तत्कालीन कुंभ मेला प्रभारी डॉ. एनके त्यागी और स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. अर्जुन सिंह सेंगर को निलंबित कर दिया था। अब यह खबर सामने आई है कि कोविड जांच फर्जीवाड़े में निलंबित किए गए हैं क्योंकि अधिकारी दोषी नहीं पाए गए।

For latest news of Uttarakhand subscribe devbhominews.com