बिहार में 2 साल में दूसरी बार हुआ ये हादसा, अचानक टूटा ये पुल

0
327
BIHAR BRIDGE COLLAPSE

UTTARAKHAND DEVBHOOMI DESK: बिहार के भागलपुर में सुल्तानगंज-अगुवानी गंगा नदी पर निर्माणाधीन फोर लेन पुल एक बार फिर (BIHAR BRIDGE COLLAPSE) धराशाई हो गया है। निर्माणाधीन पुल का सुपरस्ट्रक्चर नदी में गिर गया। इस हादसे के बाद पुल पर ड्यूटी पर तैनात दो गार्ड भी लापता हो गए। एसडीआरएफ की टीम उनकी तलाश कर रही है। अभी तक इस दुर्घटना का कारण स्पष्ट नहीं है। इस महासेतु का निर्माण एसपी सिंगला कंपनी ने किया है। बता दें कि भागलपुर जिले के सुल्तानगंज में बन रहे इस पुल का निर्माण खगड़िया और भागलपुर जिले को जोड़ने के लिए किया जा रहा है। ये घटना बीते रविवार रात की है।

BIHAR BRIDGE COLLAPSE: पहले भी हो चुका है एक हादसा

बता दें कि पिछले साल 27 अप्रैल को (BIHAR BRIDGE COLLAPSE) निर्माणाधीन पुल का ऊपरी हिस्सा नदी में गिर गया था। तूफान के दौरान इसका करीब 100 फीट हिस्सा जमीन में धंस गया था। गनीमत यह रही कि जान-माल का कोई नुकसान नहीं हुआ। इसके बाद पुल पर काम फिर से शुरू हो गया है। इस बार सुपरस्ट्रक्चर का काम करीब 80 फीसदी पूरा हो चुका है। इतना ही नहीं अप्रोच रोड का 45 फीसदी काम पूरा हो चुका है।

पुल को उत्तर बिहार और दक्षिण बिहार को जोड़ने के लिए बिहार सरकार द्वारा बनवाया जा रहा है। परियोजना की लागत करीब 1710 करोड़ रुपये है। 23 फरवरी 2014 को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इसकी आधारशिला रखी। इस पुल और सड़क के बनने से एनएच 31 और एनएच 80 आपस में जुड़ जाएंगे। बता दें कि पुल की लंबाई 3.160 किमी है।

ये भी पढ़ें:
Faridabad Murder
फरीदाबाद के व्यापारी की हत्या: 30 मई को हुआ था अपहरण, नैनीताल में मिला शव

BIHAR BRIDGE COLLAPSE: कंपनी की कार्य शैली पर हो रहा है शक

सिर्फ एक साल अगुवानी-सुल्तानगंज पुल के ढहने से पुल के निर्माण की गुणवत्ता पर सवाल खड़े हो गए। कोई एसपी सिंगला ग्रुप पर घटिया निर्माण का आरोप लगा रहा है तो कोई बिहार की निर्माण योजनाओं में भ्रष्टाचार (BIHAR BRIDGE COLLAPSE) की बात कर रहा है। वहीं दूसरी ओर डॉ. परबत्ता विधायक संजीव ने कहा कि उन्होंने गुणवत्ता संबंधी समस्याओं को पहले भी उठाया है और अब भी उठा रहे हैं। यह पुल अकारण कैसे गिर सकता है? गहन जांच होनी चाहिए।

सुल्तानगंज भागलपुर सीओ अमित राज ने बताया कि  हमने घटना के तुरंत बाद घटनास्थल पर एसडीआरएफ की टीम भेजी। किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है, लेकिन हम अभी भी तलाश कर रहे हैं। वरिष्ठ अधिकारियों के आज घटनास्थल का दौरा करने की उम्मीद है।

ये भी पढ़ें:
Uttarakhand Weather
गर्मी बढ़ने से पर्यटक परेशान, पर्यटक स्थलों पर लगा ट्रैफिक जाम

टीवी जगत पर टूटा दुखों का पहाड़, इस दिग्गज अभिनेता का निधन

पुल ढहने के एक चश्मदीद राकेश कुमार ने कहा के अनुसार उन्हें ये घटना (BIHAR BRIDGE COLLAPSE) पहले कोई विस्फोट लगी बाद में उनको एहसास हुआ कि पुल ढह गया है उन्होंने कहा कि इसकी जांच होनी चाहिए।

स्थानीय निवासी रंजन कुमार ने कहा कि पिछले साल इसी पुल का वही हिस्सा ढह गया था। अभी तो पुल पर गाड़ी चली भी नहीं है, इसलिए गाड़ी चली तो पता नहीं क्या होगा। हमने सोचा था कि इससे पहले सब कुछ टूट जाएगा। हम इसकी जांच करना चाहते हैं। यह बात दिल्ली तक जानी चाहिए।