कंडोलिया मंदिर में हर्षोल्लास के साथ पहुँचे भक्त, वार्षिक पूजन और भंडारे का आयोजन

0
196
PAURI KANDOLIYA NEWS

UTTARAKHAND DEVBHOOMI DESK: पौड़ी में भूमियाल देव कंडोलिया ठाकुर की वार्षिक पूजा के दौरान भक्तों की भारी (PAURI KANDOLIYA NEWS) संख्या दर्ज की गई। यहाँ  भक्त मंदिर में प्रार्थना करने के लिए और आशीर्वाद लेने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। इस बीच आज सुबह से ही मंदिर में हवन यज्ञ का सिलसिला जारी है। जिला मुख्यालय पौड़ी में भूमियाल देव कंडोलिया ठाकुर की वार्षिक पूजा व भंडारे की आस्था का सैलाब मंदिर में उमड़ रहा। साथ ही कंडोलिया मंदिर में वैदिक पूजन व यज्ञ हवन के साथ-साथ कार्यक्रम स्थल पर जागरण का भी आयोजन किया जा रहा है। और हजारों की संख्या में लोग जागरण में शामिल हुए हैं।

ये भी पढ़ें:
SHAKUNI MAMA PASSED AWAY
टीवी जगत पर टूटा दुखों का पहाड़, इस दिग्गज अभिनेता का निधन

PAURI KANDOLIYA NEWS: क्या क्या कार्यक्रम हुए?

कंडोलिया मंदिर में वैदिक पूजा अर्चना के दौरान (PAURI KANDOLIYA NEWS) लोक गायक अनिल विष्ट, मनोज रावत अज़ुल और योगम्बर पोली सहित अन्य ने वार्षिक कंडोलिया ठाकुर भेंट में देव स्तुति समर्पित की। वार्षिक पूजन अर्चन के इस मौके पर ढोल दमाऊ की थाप पर कंडोलिया ठाकुर के जयकारे के साथ श्रद्धालुओं ने बाबा कंडोलिया से आशीर्वाद लिया। स्थानीय विधायक राजकुमार पोरी ने कंडोलिया ठाकुर मंदिर में पूजा-अर्चना कर व छत्र चढ़ाकर सभी की सलामती की कामना की। उनके साथ नगर अध्यक्ष यशपाल बेनाम व पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष केशर सिंह नेगी ने भी कंडोलिया ठाकुर स्थित दरबार में माथा टेक कर क्षेत्रवासियों की सुख-समृद्धि की कामना की।

ये भी पढ़ें:
BIHAR BRIDGE COLLAPSE
बिहार में 2 साल में दूसरी बार हुआ ये हादसा, अचानक टूटा ये पुल

PAURI KANDOLIYA NEWS: मंदिर से जुड़ी हैं ये मान्यताएं

एक मान्यता के अनुसार पौड़ी के भूमियाल देव कंडोलिया ठाकुर (PAURI KANDOLIYA NEWS) गढ़वाल ही नहीं कुमाऊं में भी पूजे जाते हैं। कुमाऊं में उन्हें गोलजू देवता के रूप में पूजा जाता है। कहा जाता है कि कुमाऊं में चंपावत के दुगरियाल नेगी जाति के ठाकुरों के अधिष्ठाता देवता गोरिल हैं। जिन्हें गोलजू के नाम से भी जाना जाता है।

ऐसा माना जाता है कि प्राचीन समय में कुमाऊं की एक लड़की ने पौड़ी (PAURI KANDOLIYA NEWS) के दुगरियाल नेगी जाति के एक युवक से शादी की थी और फिर वह अपने प्यारे देवता गोलजू को एक कंडी में रखकर अपनी ससुराल पौड़ी ले आई। बाद में गोलजू देवता को पौड़ी में कंडोलिया ठाकुर के नाम से पूजा जाने लगा।

For latest news of Uttarakhand subscribe devbhominews.com