ताली बजाने पर क्यों ऊपर की ओर आता है इस कुंड का पानी?

0
374

Dalahi Kund:  मौसम के बिलकुल विपरीत है इस कुंड का पानी

Dalahi Kund: प्रकृति द्वारा रची गई इस दुनिया में कई रहस्य छिपे हुए हैं। इनमें से कुछ रहस्यों को सुलझाने में विज्ञान सफल रहा वहीं कुछ ऐसे भी रहस्य हैं जिन्हें विज्ञान आजतक नहीं सुलझा पाया है। इन्हीं अनसुलझे रहस्यों में से एक है उस कुंड (Dalahi Kund) का रहस्य जिसे आज तक भूविज्ञान नहीं सुलझा पाया है। इस कुंड के पास जाकर अगर आप ताली बजाएंगे तो कुंड (Dalahi Kund) का पानी अपने आप ही उछलने लगेगा।

ये अनोखा कुंड झारखंड के बोकारो से करीबन 27 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है जो दलाही कुंड (Dalahi Kund) के नाम से प्रसिद्ध है। इस कुंड के पास जाकर अगर आप ताली बजाएंगे तो कुंड में मौजूद पानी अपने आप ही ऊपर की ओर आने लगता है। ये पानी इस तरह से ऊपर की ओर आता है जैसे किसी बर्तन में पानी उबल रहा हो।

वैज्ञानिकों को जब इस कुंड (Dalahi Kund) के बारे में पता चला तो उन्होंने भी इस पर शोध करना शुरू किया, लेकिन काफी रिसर्च करने के बाद भी उनके हाथ कुछ न लगा। दलाही कुंड के इस चमत्कार को देखने के लिए दूर दूर से लोग यहां आते हैं और कुंड (Dalahi Kund) के पास जाकर ताली बजाकर देखते हैं कि क्या वाकई में ताली बजाने पर पानी ऊपर की ओर आता है या नहीं।

ये भी पढ़ें:
Devaragattu Bunny Festival
इस मंदिर में क्यों आते हैं मरने और मारने लोग?

इस कुंड (Dalahi Kund) की सबसे खास बात ये है कि इसका पानी मौसम के बिलकुल उलट होता है यानी कि अगर सर्दियां हैं तो इस कुंड में से गर्म पानी निकलेगा और अगर गर्मियां हैं तो कुंड में से ठंडा पानी निकलेगा। लोगों की ये भी मान्यता है कि इस कुंड (Dalahi Kund) के पानी में नहाने से चर्म रोग दूर होता है।

इस कुंड (Dalahi Kund) में स्नान करने के लिए भारत के अलग अलग कोनों से लोग यहां आते हैं और हर वर्ष मकर संक्रांति के मौके पर यहां एक बड़े मेले का आयोजन किया जाता है जिसमें श्रद्धालुओं की काफी भीड़ उमड़ती है। आपको बता दें कि यह चमत्कारी कुंड (Dalahi Kund) देवता दलाही गोसाई का पूजा स्थल माना जाता है और हर रविवार लोग इस कुंड में आकर भगवान की पूजा करते हैं।   

ये भी पढ़ें:
After Death Rituals
घर में किसी की मृत्यु के बाद क्यों नहीं जलता चूल्हा?

इस पवित्र कुंड (Dalahi Kund) के प्रति लोगों की काफी आस्था है, लोगों का ये भी मानना है कि इस कुंड में स्नान करने से सभी मन्नतें पूरी होती हैं। इस कुंड (Dalahi Kund) के पानी में कई औषधीय गुण मौजूद हैं, यही कारण है कि इस कुंड के पानी में स्नान करने से सभी प्रकार के चर्म रोग दूर हो जाते हैं। आपको बता दें कि सरकार द्वारा इस कुंड (Dalahi Kund) के चारों ओर कनक्रीट की बाउंड्री करवा दी गई है।

इसके साथ ही इस कुंड (Dalahi Kund) का पानी कहां से आता है और कहां जाता है इस पर भी कई बार शोध किया गया। इनमें से की गई कुछ रिसर्चर्स में ये पाया गया कि कुंड का पानी जमुई नाम के एक नाले से होते हुए गर्गा नदी में चला जाता है।

ताली बजाने पर क्यों ऊपर की ओर आता है इस कुंड का पानी?

इसके साथ ही ताली बजाने पर कुंड का पानी ऊपर की तरफ क्यों आता है इसके पीछे वैज्ञानिकों का कहना है कि इस जगह पर पानी काफी नीचे है और ये एक कारण हो सकता है कि ताली बजाने पर ध्वनि तरंगों से उत्पन्न होने वाली कंपन से कुंड का पानी ऊपर की ओर आता है।

ये भी पढ़ें:
Ananthapadmanabha Lake Temple
इस मंदिर की रखवाली करता है ये शाकाहारी मगरमच्छ

For latest news of Uttarakhand subscribe devbhominews.com