एक घंटे की बारिश के बाद इस शहर में बाढ़ जैसे हालात, घरों में घुसा कीचड़ और पानी

0
349

उत्तरकाशी (विनित कंसवाल): उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिला मुख्यालय सहित आस पास के इलाकों में मंगलवार शाम कोे जोरदार बारिश हुई। बारिश से एक ओर जहां स्थानीय लोगों को गर्मी से राहत मिली तो वहीं ये तेज बारिश कई जगह आफत बनकर भी बरसी। गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग से लगे मातली कस्बे में देर शाम हुई बारिश से हाइवे पर मटमैला पानी बहने लगा। गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग पर बारिश के पानी ये बाढ़ जैसा दिख रहा था। कुछ देर के लिए तो लोग काफी सहम गए थे।

स्थानीय संदीप उनियाल ने बताया कि उत्तरकाशी में आज शाम 3 बजे शुरू हुई बारिश से मातली में गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग पर पानी बाढ़ की तरह बहाने लगा पानी का ऐसा रूप देख कर लोगों में भय का माहौल बन गया। संदीप ने बताया कि पानी लोगों के घरों में घुस गया। सड़क से लगे करीब 15 लोगों के घरों में पानी और कीचड़ घुस गया जिसको बारिश रुकने के बाद साफ किया गया। दूसरी ओर जिला मुख्यालय के पास साल्ड रोड पर भी ऐसा नजारा देखने को मिला। ज्ञानसु के पास गंगोत्रो राष्ट्रीय राजमार्ग पर साल्ड रोड के पास भी हालात बाढ़ जैसे दिखने लगे थे। साल्ड रोड पर बारिश में मिट्टी के साथ पानी बहने लगा जो बहते बहते गंगोत्री राष्ट्रीय राममार्ग पर बहाने लगा जिस से हाइवे पर पानी के साथ साथ कीचड़ हो गया जिस से आवाजाही कर रहे वाहनों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा।

barish ki tabahi 00

ज्ञानसु के स्थानीय मुकुल नौटियाल ने बताया कि मंगलवार शाम की बारिश से पैदल चलने वालों व दुपहिया वाहन चलाने वालों को काफी दिक्कतें हुई है इन दिनों यात्रा अपने चरम पर है जिस से जाम की समय भी बनी हुई है । सड़क में पानी की निकासी न होने से बरिश का सारा पानी सड़क पर बहाने लगा। देखते ही देखते सड़क तालाब में तसबदिल होती दिखाई दी। वहीं, जोशियाड़ा क्षेत्र के प्रसिद्ध कालेश्वर मंदिर रास्ते पर भी पानी घरों की खिड़की तक पहुंच जाता है। इस मार्ग पर एक स्कूल भी है जहां 600 से 800 की संख्या में छात्र छात्रएं पढ़ती है, लेकिन इस मार्ग पर एक घंटे की बारिश से बाढ़ जिसे हालात पैदा हो जाते हैं। थोड़ी देर की बारिश से ही मार्ग पर मिट्टी के साथ साथ क्विंटलों कूड़ा भी रास्ते में और लोगों के घरों में घुस जाता है।

barish ki tabahi

वही जोशियाड़ा, लदाडी, कालेश्वर मार्ग, उत्तरकाशी बाजार आदि जगाहों पर सड़कें और रास्तों पर पानी बढ़ की तरह बहाने लग। सड़कों और पैदल रास्तों पर हुए अतिक्रमण से बरसात के मौसम में ऐसी तस्वीरें अक्सर सामने आती हैं जिसको देख कर स्थानीय प्रशासन मुह फेर लेता है।

एक घंटे की बारिश के बाद इस शहर में बाढ़ जैसे हालात, घरों में घुसा कीचड़ और पानी