सतीश कौशिक की मौत के मामले में हुआ नया खुलासा, मौत की वजह हार्ट अटैक या कुछ और?

0
83
Satish Kaushik Death Reason
Satish Kaushik Death Reason

Satish Kaushik Death Reason: दिल्ली पुलिस के हाथ लगी कुछ आपत्तिजनक दवाइयां

Satish Kaushik Death Reason: होली की देर रात इस दुनिया को अलविदा कहकर चले गए मशहूर फिल्मकार और अभिनेता सतीश कौशिक की मौत (Satish Kaushik Death Reason) के कारणों में एक नया खुलासा हुआ है, जिससे सब हैरान है। इस खुलासे से अब ये बात सामने आ रही है कि क्या सचमुच सतीश कौशिक की मौत (Satish Kaushik Death Reason) हार्ट अटैक से हुई थी या फिर इसके पीछे कोई और वजह थी।

ऐसा बताया जा रहा है होली पॉर्टी के बहाने एक नामी बिल्डर और एक गुटखा कंपनी के मालिक ने सतीश कौशिक को दिल्ली बुलाया था। ये पार्टी रजोकरी के वेस्ट एंड कालोनी में स्थित एक फार्म हाउस में रखी गई थी जो पूरी तरीके से गोपनीय थी।

दिल्ली पुलिस को इस पार्टी से कुछ आपत्तिजनक दवाइयां मिली जो अब सतीश कौशिक की मौत (Satish Kaushik Death Reason) के कारणों पर कई सवाल खड़े कर रहा है। हालांकि इस बारे में अबतक कोई जानकारी प्राप्त नहीं हो पाई है कि ये पार्टी किस तरह की थी और इस पार्टी में कौन कौन लोग शामिल थे, जिसकी जांच फिलहाल पुलिस द्वारा की जा रही है।

ये भी पढ़ें:
Patanjali Hospital News
पतंजलि योगपीठ में मरीज ने तीसरी मंजिल से कूदकर की खुदखुशी, जाने वजह

इन दवाइयों को बरामद करने के बाद दिल्ली पुलिस का कहना है कि पूरी पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मौत (Satish Kaushik Death Reason) की सही वजह बताई जा सकती है। साथ ही पुलिस द्वारा ये भी बताया गया कि जिस फार्म हाउस में ये पार्टी रखी गई थी वो एक उद्योगपति का है जिसमें आए मेहमानों की लिस्ट को खंगाला जा रहा है। मेहमानों की इस लिस्ट में एक उद्योगपति भी शामिल हैं जो फिलहाल फरार बताए जा रहे हैं।  

बता दें कि होली की देर रात सतीश कौशिक फार्म हाउस में ही मौजूद थे जब उन्हें दिल का दौरा पड़ा, जिसके बाद उन्हें फार्म हाउस से गुरुग्राम ले जाया जा रहा था और रास्ते में ही उनकी मौत (Satish Kaushik Death Reason) हो गई। सतीश कौशिक की मौत (Satish Kaushik Death Reason) के बाद ही उद्योगपति विकास रात को ही अंडरग्राउंड हो गया और अलगे ही दिन वो दुबई भाग गया।

अपनी गैरमौजूदगी में विकास ने इस मामले को निपटाने के लिए एक अन्य बिल्डर को ये जिम्मेदारी सौंपी, जिसके बाद उस बिल्डर ने रात को ही एक विशेष आयुक्त को कॉल किया और मामले की पूरी जानकारी दी, जिसके बाद विशेष आयुक्त द्वारा इस मामले को संभालने के लिए एक अधिकारी को ये जिम्मेदारी सौंपी गई और फिर रात भर बिल्डर और उस अधिकारी के बीच बात होती रही।   

ये भी पढ़ें:
Uttarakhand Education Board
20 साल शिक्षा विभाग को देने के बाद भी नहीं हो रहे शिक्षक पक्के, जानें पूरा मामला

For latest news of Uttarakhand subscribe devbhominews.com