आरटीआई में बड़ा चौंकाने वाला खुलासा…गांधी जी महात्मा न राष्ट्रपिता, नहीं मिला कोई प्रमाण!

0
380

हरिद्वार (अरुण कश्यप): हरिद्वार के सामाजिक एवं आरटीआई कार्यकर्ता हिमांशु सरीन की ओर से सूचना के अधिकार (RTI) के तहत मांगी गई सूचना में जवाब देते हुए संस्कृति मंत्रालय ने बताया है कि ‘‘गांधी (Mahatma Gandhi) के राष्ट्रपिता और महात्मा होने का कोई प्रमाण भारत सरकार के पास उपलब्ध नही है।’’ ऐसे में गांधी को राष्ट्रपिता कहा जा सकता है या नहीं यह संदेहात्मक है।

sarin and rti 2

mahatma g 0

हालांकि सूचना के जवाब में गुजरात उच्च न्यायालय में दायर एक याचिका के एक निर्णय (19 फरवरी 2016) का हवाला देते हुए यह जरूर बताया गया है कि गांधी जी (Mahatma Gandhi) को रवींद्रनाथ टैगोर ने अपने एक संदेश में गुरुदेव कहा था व उनकी आत्मकथा लिखते समय वर्ष 1915 में गांधी जी को टैगोर ने महात्मा की उपाधि प्रदान की थी। इसके बाद इस वाद में गुजरात हाईकोर्ट ने गांधी जी को महात्मा कहे जाने की बात को बरकरार रखा, लेकिन गाँधी जी के राष्ट्रपिता होने का कोई प्रामाणिक डेटा उपलब्ध नहीं है। इसके बाद हिमांशु सरीन का कहना है कि कोई भी व्यक्ति राष्ट्रपुत्र हो सकता है किंतु राष्ट्रपिता नहीं। राष्ट्रपिता जैसा कोई व्यक्ति नहीं होता। क्योंकि गांधी जी के पहले भी भारत देश का अस्तित्व था। गांधी जी को राष्ट्रपिता कहना मात्र एक राजनैतिक विचारधारा है। इसका यथार्थ से कोई सम्बन्ध नहीं है।

sarin and rti 1 e1652955319823

बताया कि मांगे गए अन्य बिंदुओं के लिए संबंधित विभाग को संबंधित धाराओं के अंतर्गत पत्र प्रेषित कर सूचना उपलब्ध करवाने की जानकारी नहीं दी गयी है। इसके लिए वह उच्च स्तरीय अपील करेंगे। सरीन के अनुसार ऐसे कई विषय हैं जिन पर अभी खुलासा होना अभी बाकी है। जल्द ही सार्वजनिक हितों के लिए बड़े स्तर पर पत्राचार किया जाएगा।