किसान ने मंदिर में चढ़ाया चांदी से बना अफीम का पौधा

0
233
किसान ने मंदिर में चढ़ाया अफमी का पौधा

दिल्ली,ब्यूरो : अक्सर आपने सुना होगा कि लोग भगवान को चांदी-सोने से बनी कई सामाग्री चढ़ाते हैं। भक्त अपनी मनोकामना पूरी होने पर भगवाव को कभी चांदी का छत्र तो भी सोने का छत्र चढ़ाते हैं। लेकिन शायद ही आपने कभी सुना होगा कि भगवान को चांदी से बना का अफीम का पौधा चढ़ाया गया हो। सुनकर आपको थोड़ा अटपटा सा लगा होगा, लेकिन ये बात सच है। राजस्थान में सिंगोली के चारभुजा नाथ मंदिर में एक किसान ने अपनी मन्नत पूरी होने पर चांदी से बना अफीम का पौधा चढ़ाया है।

किसान ने मंदिर में चढ़ाया चांदी से बना अफीम का पौधा

बता दें कि राजस्थान के भीलवाड़ा जिले में भगवान सिंगोली श्याम को उनके एक भक्त ने अच्छी अफीम की फसल होने पर चांदी से बना अफीम का पौधा भेंट स्वरूप चढ़ाया है। अफीम का पौधा चढ़ाने वाला भक्त मध्य प्रदेश के सुजानपुरा गांव का किसान है। दरअसल किसान ने इस बार अफीम की खेती की थी और भगवान सिंगोली चारभुजा नाथ से उसने अच्छे उत्पादन की मन्नत मांगी थी। भक्त जय लाल धाकड़ ने भगवान सिंगोली चारभुजा नाथ से मन्नत मांगी थी कि अगर इस बार फसल अच्छी होगी तो वो मंदिर में चांदी से बना अफीम का पौधा भगवान को भेंट करेगा। भक्त जय लाल का कहना है कि इस बार उसने अपने खेत में अफीम की फसल बोई थी और उसने फसल के अच्छे उत्पादन के लिए भगवान से मन्नत मांगी थी, और अब उसकी मन्नत पूरी हो गई है इसिलिए उसने भगवान सिंगोली श्याम को ये भेंट चढ़ाई है। ये भी पढ़े-13 दिन से चीन सीमा से लापता उत्तराखंड के जवान का कोई सुराग नहीं, सदमें में परिवार

किसान ने मंदिर में चढ़ाया अफमी का पौधा

वैसे राजस्थान के मेवाड़ में भगवान सांवरिया सेठ, गढ़बोर चारभुजा नाथ, कोटडी चारभुजा नाथ और सिंगोली चारभुजा नाथ मंदिर की अपनी खास मान्यता है। इन मंदिरों पर भगवान को भक्त तरह-तरह की भेंट चढ़ाते हैं। वहीं सिंगोली के चारभुजा नाथ मंदिर में एक भक्त ने अपनी मन्नत पूरी होने पर डेढ़ किलो चांदी से बना अफीम का पौधा चढ़ाया है। सिंगोली श्याम मंदिर के व्यवस्थापक अर्जुन सिंह ने जानकारी देते हुए बताया किसान जय लाल धाकड़ ने पहले मंदिर में पूछा-अर्चना की और फिर भेंट स्वरूप भगवान को चांदी से बना अफीम का पौधा चढ़ाया। ये भी पढ़े-लखनऊ और दून में इस भ्रष्ट IAS के सात ठिकानों पर ताबड़तोड़ छापे, आय से 500 गुना ज्यादा है सम्पत्ति