उत्तराखंड में इस जगह से था, पंडित नेहरू को खास लगाव

0
52

Jawaharlal Nehru Birth Anniversary : देहरादून में बसता था पंडित नेहरू का मन 
पूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू का उत्तराखंड के देहरादून से गहरा नाता था। वह वर्ष 1906 में मसूरी आए थे। स्‍वतंत्रता आंदोलन के दौरान वह देहरादून की जेल में 4 बार बंद रहे थे। जेल में वर्ष 1932 से 1941 के बीच पंडित जवाहर लाल नेहरू 878 दिन कैद रहे।

Jawaharlal Nehru Birth Anniversary : इस दौरान उन्‍होंने भारत एक खोज’ के कई अंश भी लिखे थे। जवाहर लाल नेहरू ने 1946 से 1964 के बीच कई बार मसूरी का दौरा किया था। वहीं, 1959 को उन्होंने मसूरी के हैप्पीवैली स्थित बिड़ला हाउस में तिब्बती धर्मगुरु दलाईलामा से पंडित जवाहर लाल नेहरू ने मुलाकात कर तिब्बतियों के विस्थापन को लेकर चर्चा की थी।

Jawaharlal Nehru Birth Anniversary : आजादी की लड़ाई को लेकर चर्चा

इसके साथ ही यहां पंडित जवाहर लाल नेहरू स्थानीय लोगों के साथ आजादी की लड़ाई को लेकर चर्चा करते थे और उन्हें एकजुट होने का संदेश देते थे। जवाहर लाल नेहरू के अलावा मोती लाल नेहरू, कमला नेहरू, इंदिरा गांधी सहित पूरे परिवार का मसूरी में आना जाना लगा रहता था। जब देश आजाद हुआ तो उसके बाद भी नेहरू मसूरी आए थे और मालरोड पर घोड़े से चला करते थे।

Jawaharlal Nehru Birth Anniversary

Jawaharlal Nehru Birth Anniversary : 26 मई 1964 को अंतिम बार आए देहरादून

पंडित नेहरू मृत्यु से एक दिन पहले यानी 26 मई 1964 को देहरादून आए थे। पंडित जवाहर लाल नेहरू को दून का सर्किट हाउस ( जो वर्तमान में राजभवन है) बहुत पसंद था। पंडित नेहरू जब भी देहरादून आते, वे यहीं रुकते थे। उन्होंने विजिटर बुक में 160 एकड़ भूभाग में फैले सर्किट हाउस की सुंदरता का उल्लेख भी किया है।

Jawaharlal Nehru Birth Anniversary today

25 मई 1964 में जवाहर लाल नेहरू की मसूरी की अंतिम यात्रा थी। उस दिन नेहरू ने LBS अकादमी में अपना लेक्चर दिया था और शाम को उनकी तबीयत खराब होने लग गई थी । उसके बाद नेहरू दिल्ली लौट गए और 27 मई 1964 को उनका निधन हो गया था ।

ये भी पढ़ें… उत्तराखंड Earthquake अलर्ट एप से ‘अलार्म’ गायब, लॉन्चिंग के वक्त किए गए थे ये दावे