Google Doodle Today: डॉ. भूपेन हजारिका को क्यों बनाया गया आज का गूगल डूडल?

0
45
Google Doodle today
Today's Google Doodle

Google Doodle Today: कौन थे डॉ. भूपेन हजारिका ?

Google Doodle Today: आज का गूगल डूडल डॉ. भूपेन हजारिका को समर्पित है। मगर कौन थे डॉ. भूपेन हजारिका जिन्हें गूगल ने आज का डूडल बनाकर उन्हें श्रद्धांजली दी। डॉ. भूपेन हजारिका एक जाने माने असमिया- भारतीय गायक थे, संगीतकार थे और साथ ही साथ फिल्म निर्माता भी थे। हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के जानेमाने संगीतकार की आज 96वीं जयंती है और इसी मौके पर डॉ. भूपेन हजारिका को आज का गूगल डूडल (Google Doodle Today) बनाकर उन्हें गूगल द्वारा श्रद्धांजली दी जा रही है।

किसने बनाया आज का गूगल डूडल?

गूगल ने डूडल (Google Doodle Today) के तौर पर डॉ. भूपेन हजारिका को हारमोनियम बजाते हुए दिखाया है। डॉ. भूपेन हजारिका का ये डूडल (Google Doodle Today) मुंबई की आर्टिस्ट रुतुजा माली द्वारा बनाया गया है। आपको बता दें कि डॉ. भूपेन हजारिका एक बेहद प्रतिभाशाली संगीतकार और गायक थे, यही वजह है कि आज भी डॉ. भूपेन हजारिका के गीत कई लोगों के मुख पर सदैव चढ़े रहते हैं।      

डॉ. भूपेन हजारिका ने कैसे की संगीत में अपने करियर की शुरूआत?

डॉ. भूपेन हजारिका
Source: Social Media (डॉ. भूपेन हजारिका)

भूपेन हजारिका ने अपनी पढ़ाई गुवाहाटी से की। इसके बाद 10 साल की उम्र में हजारिका ने संगीत में अपने करियर की शुरुआत की। संगीत में भूपेन हजारिका की प्रतिभा को देखते हुए असम के प्रसिद्ध गीतकार ज्योतिप्रसाद अग्रवाल और फिल्म निर्माता बिष्णु राभा ने हजारिका की मदद की। 12 साल की उम्र में हजारिका ने दो फिल्मों के लिए गाने लिखे।

ये भी पढ़े:
Lavasa ControversyLavasa Controversy: भारत में बनी 2 लाख करोड़ की स्मार्ट सिटी कैसे हुई फेल?

डॉ. भूपेन हजारिका ने संगीत की विद्या किनसे की प्राप्त?

भूपेन हजारिका ने आगे की पढ़ाई बीएचयू से की। उन्होंने यहां से राजनीति शास्त्र की पढ़ाई की और इसी दौरान संगीत में उनकी रूची और बढ़ती चली गई। इसके बाद भूपेन हजारिका ने बनारस से शास्त्रीय संगीत की विद्या ली। उन्होंने यहां संगत उस्ताद बिस्मिल्लाह खान, कंठे महराज और अनोखेलाल से संगीत की विद्या ग्रहण की।

डॉ. भूपेन हजारिका को इन पुरस्कारों से नवाजा गया

डॉ. भूपेन हजारिका
Source: Social Media

संगीत की विद्या प्राप्त करने के बाद तो बस फिर भूपेन हजारिका रुके ही नही और संगीत जगत में अपना ऐसा नाम रोशन किया की उनके इस जगत में उत्कृष्ट योगदान देने के लिए उन्हें कई पुरस्कारों से नवाजा गया। जीते जी भूपेन हजारिका को संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार मिला, पद्म भूषण और पद्म श्री जैसे कई पुरस्कारों से इन्हें नवाजा गया। इसके बाद मरणोपरांत भूपेन हजारिका को साल 2019 में भारत रत्न से सम्मानित किया गया।   

ये भी पढ़े:
Pind Daan in GayaPind Daan in Gaya : गया में क्यों किया जाता है पिंडदान? जानिए इसके पीछे का कारण

For latest news of Uttarakhand subscribe devbhominews.com