बोले वीरभद्र स्टेशन अभी नहीं है संवेदनशील स्टेशन ; बड़ी घटना दोबारा होती है, तो लगाए जाएंगे सीसीटीवी

ऋषिकेश (अमित कंडियाल) :   एक तरफ उत्तराखंड सरकार बस अड्डे और रेलवे स्टेशनों पर सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजमा करने के दावे कर रही है। लेकिन सरकार के इन दावों पर कुछ अधिकारी पलीता लगाने से बाज नहीं आ रहा हैं। मामला ऋषिकेश के वीरभद्र स्टेशन का है। जहां सुरक्षा के मद्देनजर एक भी सीसीटीवी कैमरा नहीं लगा है। लेकिन जब इसे लेकर मुरादाबाद डिविजन के एडीआरएम से पूछा गया । तो जनाब का बड़ा ही बेतुका बयान सामने आया है। एडीआरएम निर्भय नारायण का कहना है कि ‘ वीरभद्र स्टेशन संवेदनशील स्टेशन की श्रेणी में नहीं आता है, और अगर पहले कोई घटना हुई है, तो कोई बात नहीं हैं। लेकिन अगर ऐसे ही दो-चार बड़ी घटनाएं दोबारा होती है, तो सीसीटीवी लगाए जाएंगे’ । एडीआरएम साहब के इस बयान से साफ तौर पर नजर आता है कि रेलवे प्रशासन यात्रियों की सुरक्षा को लेकर कितना गंभीर है।

गौरतलब है कि पिछले दिनों उक्त वीरभद्र स्टेशन पर अन्य राज्य से आई एक युवती ने अपने साथ गैंगरेप होनी बात कही थी। पीड़िता ने कोतवाली ऋषिकेश पहुंचकर आपबीती भी बताई थी कि उसके साथ वीरभद्र स्टेशन पर सामूहिक रेप हुआ है। हालांकी बाद में युवती के परिजनों ने किसी कारणवश पुलिस को तहरीर नहीं दी और वो वापस लौट गए। लेकिन सवाल ये है कि अगर इससे और भी बड़ी अप्रिय घटना भविष्य में दोबारा होती है, तो बिना सीसीटीवी के जांच कैसे मुमकिन हो पाएगी।

मामले में ऋषिकेश विधायक और वित्त एवं शहरी विकास मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी है। उनका कहना है कि मामला उनके संज्ञान में आया है। और उक्त स्टेशन का निरीक्षण कर वहां सीसीटीवी की व्यव्स्था की जाएगी।