नोटबंदी के 6 साल-भूले तो नहीं आप, बैंक के बाहर लंबी कतार-याद है जनाब

demonetisation

Demonetisation (नोटबंदी) के आज पूरे हुए 6 साल, कई महीनों तक रहा था अफरा तफरी का माहौल

आज 8 नवम्बर है, जी हाँ, वही तारीख जो देश में एक बड़े फैसले और बदलाव का गवाह है। आज ही के दिन 8 नवम्बर 2016 को देश में Demonetisation [नोटबंदी ] का एलान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया था। इसके बाद उसी दिन आधी रात से 500 और 1000 के नोट का चलन भारत में बैन हो गए। सरकार के इस फैसले से देश में काफी उथल पुथल मची, लेकिन फिर नए नोट करेंसी मार्केट में आ गए। नोटबंदी के बाद इन पिछले 6 सालों में कितना बदलाव देखने को मिला, आए जानते हैं।

Demonetisation (नोटबंदी) के बाद चलन में आए 2000, 500 और 200 के नए नोट

demonetisation

“आज रात 12 बजे से 500 और 1000 रुपए के नोट लीगल टेंडर नहीं रहेंगे” पीएम मोदी की ये बात सुनकर लोगों के खिसक गई थी पैरों तले जमीन। वैसे भले ही 500 और 1000 के नोट जो सबसे ज्यादा इस्तेमाल में थे एकाएक चलन से बाहर हो गए लेकिन कुछ समय बाद ही उनकी जगह 2000, 500 और 200 के नए नोट ने संभाल ली। हाँ, शुरू में कुछ समय के लिए देश में अफरा तफरी रही लेकिन फिर नए नोटों के चलन में आने से सब ठीक होता गया और नए नोटों का चलन साल दर साल बढ़ता ही गया।

अब देश में कैश सर्कुलेशन 72 फीसदी बढ़ चुका है, हालांकि नोटबंदी (Demonetisation) जैसे फैसलों से लग झटके से उबारने में डिजिटल पेमेंट में भी ख़ासी तेज़ी आई है, जो कोरोना काल के बाद बढ़ती ही गई।

ये भी पढ़ें… पीएम मोदी का नया नारा “यह गुजरात मैंने बनाया”,प्रधानमंत्री ने किया BJP की बड़ी जीत का दावा

Demonetisation से कैश में आई थी कमी – अब फिर बना किंग, डिजिटल पेमेंट ने पकड़ी रफ्तार

ताज़ा आंकड़ों को देखें तो Demonetisation के बाद से अब तक देश में कैश फ़्लो 72 फीसदी बढ़ चुका है। जब 8 नवम्बर 2016 को नोटबंदी की घोषणा हुई थी, उस समय 18 लाख करोड़ का कैश मौजूद था, जबकि पिछले साल अक्टूबर के अंत तक यह बढ़कर 29 लाख करोड़ पर पहुँच गया। यानि बीते साल नोट के फ़्लो में 64 फीसदी की बढ़त हुई है, जो अब जाकर 72 फीसदी तक पहुँच गयी है।

नोटबंदी वाले साल ही UPI की शुरुवात भी कर दी गयी थी और अब देश में कैश के साथ डिजिटल पेमेंट्स भी जोरदार तरीके से बढ़ी है। इस नोटबंदी के बाद से क्रेडिट डेबिट कार्ड, नेट बैंकिंग और यूपीआई सभी तरीकों से डिजिटल पेमेंट बढ़ा है।

For Latest National News Subscribe devbhoominews.com