Assam CM Himanta Statement On Madrassa: CM हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा कि ये मदरसे नहीं अल-कायदा के दफ्तर थे

0
36

Assam CM Himanta Statement On Madrassa: आतंकवादी गतिविधियों और मदरसों के बीच कनेक्शन

National news desk : मंगलवार को असम में चौथा मदरसा भी ढहा दिया गया है। (Assam CM Himanta Statement On Madrassa)आपको बता दें कि चौथे मदरसे को सरकार द्वारा नहीं बल्कि स्थानीय लोगों के द्वारा तोड़ा गया। इस बात की जानकारी पुलिस अधिकारी के द्वारा दी गई। इसके बाद पूर्वोत्तर राज्य के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा का बयान सामने आया। उनके द्वारा कहा गया कि अब जो मुस्लिम समुदाय है वो भी इस काम के लिए आगे आ रहा है। मिली जानकारी के अनुसार असम में आतंकवादी गतिविधियों और मदरसों के बीच कनेक्शन सामने आ रहा है। जिसके बाद कुछ मदरसों को ढहाया जा चुका है।

अब मदरसे का चरित्र बदल रहा है

Assam CM Himanta Statement On Madrassa

सीएम सरमा के द्वारा कहा गया है कि जिन मदरसों को गिराया गया है। वह मदरसे नहीं बल्कि अल-कायदा के दफ्तर थे। हमारे द्वारा 2 -3 मदरसों को गिराया गया है। अब इस तरह के मदरसों को गिराने के लिए आम जनता भी आगे आ रही है। मुसलमान समुदाय भी इस काम में आगे आ रहा है। सीएम सरमा ने आगे कहा कि लोग ऐसा मदरसा नहीं चाहते जहां अल-कायदा का काम चल रहा हो। अब मदरसे का जो चरित्र है वो बदल रहा है।

यह भी पढ़ें : Locals Demolished The Madrassa In Assam: स्थानीय लोगों ने ढहाया मदरसा; आतंकी गतिविधियों को दिया जा रहा था अंजाम

Assam CM Himanta Statement On Madrassa: लोग जिहादी गतिविधियों का समर्थन नहीं करना चाहते

Assam CM Himanta Statement On Madrassa

गोलपारा एसपी वीवी राकेश रेड्डी के द्वारा जानकारी दी गई, उन्होंने कहा कि अब स्थानीय लोगों के द्वारा मदरसे को गिराने की पहल शुरू हो चुकी है। (Assam CM Himanta Statement On Madrassa) इस बार जो मदरसा गिराया गया उसमे सरकार शामिल नहीं है। वे इस बात से चौंक गए कि जिन जिहादियों को गिरफ्तार किया गया वह मदरसे में शिक्षक के तौर पर लगा हुआ था। लोगों के द्वारा कहा गया है कि उन्हें जिहादी गतिविधियों का समर्थन नहीं करना है।

असम जिहादी गतिविधियों का गढ़ बन चुका है 

Assam CM Himanta Statement On Madrassa

सीएम सरमा के द्वारा कहा गया कि अब असम जिहादी गतिविधियों का गढ़ बन चुका है। उनके द्वारा इस बात की भी घोषणा की गई थी। कि असम के मस्जिद और मदरसों में जो धार्मिक शिक्षक बाहर से आते है। उनका सरकारी पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन होना जरुरी है।

For latest news of Uttarakhand subscribe devbhoominews.com