फिर देवदूत बनी मित्र पुलिस…फंदे पर लटक चुके युवक की जान ऐसे बचाई…

0
150

रुड़की (दीप रमोला): पुलिस कर्मियों ने रुड़की के बंदा रोड इलाके में एक युवक को मौत के मुंह से बचा लिया। मामूली कहासुनी के कारण फांसी के फंदे पर झूल चुके युवक को पुलिस की तत्परता, सुझबुझ और समय पर इलाज मिलने के कारण नई जिंदगी मिली है। सिविल लाइंस कोतवाली के चेतक पुलिस कर्मी विकास त्यागी व होमगार्ड सुनील रात में करीब 2ः00 बजे गश्त करते हुए बंदा रोड के पास पहुंचे तो अचानक एक घर से जोर-जोर से पुरूष व महिलाओं के रोने-चिल्लाने की आवाज आ रही थी। तत्काल किसी अनहोनी और अपराध घटित होने की आशंका पर घर के अंदर जाकर देखा तो पूरे परिवार वाले घर में घबराहट में इधर उधर दौड़ते हुए चिल्ला रहे थे कि हमारे लड़के ने कमरा बंद करके फांसी लगा ली है। कमरे का लॉक अंदर से बंद है। पूरा परिवार यह घटना देखकर सदमे में थे। सभी लगातार बहुत जोर जोर से रो रहे थे।

devdoot bani police

मौके पर पहुंचने के बाद पता चला कि युवक ने प्रथम तल पर अपने कमरे को अंदर से लॉक कर फांसी लगा ली है। तुरंत पुलिस कर्मचारीगणों ने प्रथम तल पर जाकर खिड़की से देखा तो युवक फांसी के फंदे पर चुन्नी के सहारे लटका हुआ था और उसके हाथ-पैर हिल रहे थे। इस पर बिना एक क्षण गवाएं पुलिस कर्मियों ने अदम्य साहस व सूझबूझ का परिचय देते हुए दरवाजे को तोड़ने हुए युवक के गले में बंधी चुन्नी को काटकर सकुशल युवक को फांसी के फंदे से उतारा। इसके बाद तुरंत सरकारी अस्पताल भिजवाया। समय से इलाज मिलने व तत्काल कार्यवाही करने से अनस पुत्र दिलशाद निवासी बंदा रोड कोतवाली रुड़की हरिद्वार उम्र लगभग 18 वर्ष की जान बचायी जा सकी। यह युवक अस्पताल से छुट्टी होकर अपने घर आ गया है व स्वस्थ है। यह युवक घर का एकमात्र बेटा है और घर में हुई मामूली कहासुनी के कारण आत्महत्या करने को अग्रसर हुआ था। युवक के परिजनों द्वारा उत्तराखंड पुलिस की भरपूर प्रशंसा की है और क्षेत्र के आमजन द्वारा भी पुलिस की तत्काल की गयी कार्यवाही की प्रशंसा की जा रही है।

Follow us on our Facebook Page Here and Don’t forget to subscribe to our Youtube channel Here