300 मीटर रोड बनाने के लिए 300 बहाने, चंदे से बनी दून की इस काॅलोनी की सड़क

0
383

सरकार और शासन-प्रशासन को आईना दिखा रहे लोग, कई बार गुहार लगाने के बाद भी इस वीआईपी इलाके में खस्ताहाल थी रोड

देहरादून (त्रिपुरारी मिश्रा): केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी दावा करते हैं कि देश में सड़क निर्माण का कार्य रिकॉर्ड 30 किलोमीटर प्रतिदिन पहुंच गया है। इस दावे की हकीकत उत्तराखंड की राजधानी में धरातल पर दिखाई नहीं देता। अगर दिखाई देता तो लोगों को चंदा इकठ्ठा कर सड़क निर्माण कार्य नहीं करवाना पड़ता। जी हाँ उत्तराखंड राज्य की विधानसभा से महज एक किलोमीटर दूर वीआईपी कही जाने वाली आर.के पुरम कालोनीवासियों ने अपने स्तर से सड़क निर्माण कर सरकार के साथ ही शासन-प्रशासन को आईना दिखाने का काम किया है। लंबे समय से खस्ताहाल हो चुकी सड़क के निर्माण को लेकर कॉलोनीवासियों ने पार्षद, विधायक और मुख्यमंत्री के दरबार में गुहार लगाई, लेकिन कहीं से कोई हल नहीं निकला जिसके बाद थक हार कर निराश कॉलोनी वासियों ने आपस में चंदा जमा कर अपने स्तर से ही सड़क का निर्माण शुरू कर दिया है। अब आप सोच सकते हैं कि जब उत्तराखंड की राजधानी देहरादून शहर में लोगों को चंदा जमा कर सड़क का निर्माण करना पड़ रहा है तो सुदूर पहाड़ी इलाकों के विकास की स्थिति क्या होगी..? महज 300 मीटर सड़क के निर्माण को लेकर जनप्रतिधियों के पास 300 बहाने हैं। कभी बजट नही तो कभी बरसात है, उसके बाद बना देंगे।

बता दें कि जोगीवाला चैक की बद्रीपुर रोड़ पर स्थित आर.के.पुरम कालोनी की सड़क खस्ताहाल हो चुकी है। सड़क में जगह-जगह गड्डे ही गड्ढ़े हो चुके हैं। खस्ताहाल सड़क से स्थानीय लोग काफी परेशान हैं। इन गड्ढ़ों के कारण कई बार लोग चोटिल भी हो चुके हैं। सड़़क निर्माण को लेकर स्थानीय लोग लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों, पार्षद कपिल थापा से लेकर क्षेत्र के तत्कालीन विधायक व पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत के दरबार में भी कई बार गुहार लगाई लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। चारों तरफ से निराश लोगों ने आखिरकार आपस में पैसे जमा कर अपने स्तर से सड़क निर्माण कार्य शुरू कर दिया है।

dr sd joshi

डॉक्टर एसडी जोशी भी इसी आर.के.पुरम कालोनी में रहते हैं। सड़क की दुर्दशा से चितिंत डॉक्टर जोशी कहते हैं कि व्यक्तिगत स्तर से उन्होंने देहरादून के मेयर सुनील उनियाल गामा, पूर्व विधायक व सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत, स्थानीय पार्षद कपिल थापा, लोकनिर्माण विभाग के अधिकारियों से बात की, लेकिन कोई हल नहीं निकला। हर तरफ से सिर्फ आश्वासन ही मिलता है। स्थानीय कांग्रेसी पार्षद कपिल थापा तो यहां तक कहते हैं कि यह कालोनी भाजपा का वोट बैंक है। इस सड़क का निर्माण भाजपा सरकार करवायेगी। इसका साफ सा मतलब है कि वह इस सड़क का निर्माण नहीं करवायेंगे। जनप्रतिनिधियों के इस रवैये से नाराज डॉ. जोशी कहते हैं कि विधानसभा से 1 किलोमीटर दूरी पर स्थित कालोनी की सड़क की कोई सुध लेने को तैयार नहीं है जिसमें प्रतिष्ठित लोग रहते हैं तो सुदूर पहाड़ी क्षेत्र की सड़कों की हालत क्या होगी? हर जगह से थक हारकर हम सभी कालोनीवासियों ने आपस में पैसे जमा कर सड़क निर्माण कार्य शुरू करा दिया है।

डॉ जोशी ने बताया कि पूर्व मुख्यमंत्री और हरिद्वार सांसद डॉ रमेश पोखरियाल निशंक जब डोईवाला के विधायक थे तब इस सड़क का निर्माण हुआ था। उसके बाद से इस सड़क की तरफ किसी ने ध्यान नहीं दिया। महज 300 मीटर सड़क के निर्माण को लेकर जनप्रतिधियों के पास 300 बहाने हैं। कभी बजट नही तो कभी बरसात है, उसके बाद बना देंगे। उन्होंने कहा कि बड़ा दुख होता है जिम्मेदार जनप्रतिनिधियों की इस तरह की बहानेबाजी सुनकर। शासन-प्रशासन और सरकार को आईना दिखाने के बाद भी शायद सरकार के कान में जूं रेंग जाए।

Follow us on our Facebook Page Here and Don’t forget to subscribe to our Youtube channel Here