उत्तराखंड के इन गांवों में बाघ का आंतक, प्रशासन ने उठाए ये कदम

0
353
Tiger terror in Uttarakhand

Uttarakhand Devbhoomi Desk: उत्तराखंड के पौड़ी-गढ़वाल जिले में बाघ का आतंक बढ़ता ही जा रहा है। बाघ के बढ़ते आंतक को देखते हुए प्रशासन अलर्ट मोड (Tiger terror in Uttarakhand) पर आ गया है। बता दें कि पौड़ी गढ़वाल जिला प्रशासन ने जिले के कई गांवो में कर्फ्यू लगा दिया है। ऐसे में ये कर्फ्यू शाम सात बजे से सुबह छह बजे तक रहेगा। इसके अलावा आज और कल रिखणीखाल और धूमाकोट तहसील के सभी स्कूल और आंगनबाड़ी केंद्र बंद रहेंगे। डीएम पौड़ी आशीष चौहान ने इस संबंध में दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं। 

बताते चले कि रिखणीखाल (Tiger terror in Uttarakhand) के डल्ला गांव में दो दिन पहले ही बाघ ने एक वृद्ध व्यक्ति पर हमला किया था। जिससे वृद्ध की मौत हो गई थी। इसके बाद से ही पूरे इलाके में दहश्त का माहौल बन गया। लोग अपने घरों से बाहर निकलने से पहले सौ बार सोच रहे है। वहीं हमले के बाद वन विभाग बाघ को पकड़ने की कोशिश में जुट गई है। इसके लिए वन विभाग ने गांव में पिंजरा लगा दिया है। इसके अलावा आसपास के क्षेत्रों में ड्रोन से भी निगरानी रखी जा रही है। इस दौरान बताया गया है कि पडियारपाणी गांव में बाघ की मूवमेंट कैमरे में कैद हुई है।

ये भी पढ़ें:
Atiq Ahmed Murder
माफिया अतीक की हत्या के बाद अलर्ट मोड पर उत्तराखंड पुलिस, अतीक का यहां भी रहा था दखल

उधर, ग्राम पंचायत मेलधार के प्रधान खुशेंद्र सिंह का कहना है कि वृद्ध की मौत के बाद आसपास के गांवों में भी दहशत फैल गई है। ऐसे में शाम ढलते ही लोग अपने घरों में कैद हो जा रहे हैं। हालांकि जिला प्रशासन की ओर से गांव के रास्तों में 10 स्ट्रीट लाइटें भी लगाई गई हैं।

Tiger terror in Uttarakhand: गांव में पिंजरा लगाया गया

उधर, गढ़वाल वन प्रभाग के डीएफओ स्वप्निल अनिरुद्ध ने बताया कि हमलावर बाघ को पकड़ने के लिए गांव में (Tiger terror in Uttarakhand) पिंजरा लगाया गया है। लेकिन अभी तक हमलावर बाघ नहीं पकड़ा गया है। लेकिन बताया जा रहा है कि बाघ की मूवमेंट गांव के आसपास लगातार बनी हुई है। जो ड्रोन की मदद से देखी जा सकती है।

ये भी पढ़ें:
Chardham Yatra 2023
चारधाम यात्रा में अगर हुई वाहनों में कमी तो किया जायेगा इन बसों का संचालन

For latest news of Uttarakhand subscribe devbhominews.com