संगीनों के साए में डाडा जलालपुर, धारा 144 लगाई; नहीं होने देंगे महापंचायत

0
202
हरिद्वार में जल्द उतरेंगे बोईंग 777 विमान, इस इलाके में चयनित की गई जमीन 

महापंचायत को लेकर प्रशासन सख्त, डाडा जलालपुर गांव के आस-पास 5 किलोमीटर दायरे में चप्पे-चप्पे पर पुलिस, 5 डिप्टी एसपी, 56 दरोगा, 150 सिपाही, 30 महिला सिपाही के साथ ही छह कंपनियां फोर्स

रुड़की (दीप रमोला): डाडा जलालपुर गांव में आज बुधवार को होने वाली महापंचायत को लेकर प्रशासन ने कड़ा रुख अख्तियार करते हुए डाडा जलालपुर के 5 किलोमीटर के दायरे में आने वाले सभी गांवों में धारा 144 लागू करने के साथ ही भारी पुलिस बल तैनात कर दिया है। साथ ही चेतावनी भी दी है कि कोई भी पंचायत नहीं होने दी जाएगी। ऐसा करने वालों पर प्रशासन सख्त कार्रवाई करेगा और लॉ एंड ऑर्डर के उल्लंघन को किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

हरिद्वार डीएम विनय शंकर पांडे ने कहा कि डाडा जलालपुर गांव में पिछले दिनों दो सम्प्रदाय के बीच शोभायात्रा निकालने को लेकर विवाद हो गया था, जिसे लेकर प्रशासन द्वारा कार्रवाई की जा रही थी। कुर्बान अली नामक व्यक्ति की याचिका पर अलग-अलग राज्यों में हुए इस तरह के हिंदू-मुस्लिम के झगड़े पर आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई करते हुए उत्तराखंड के मुख्य सचिव को गांव में कानून व्यवस्था खराब होने पर जिम्मेदार ठहराने की बात कही थी। इसके बाद मुख्य सचिव द्वारा गांव जलालपुर प्रकरण की प्रशासनिक अधिकारियों से पल-पल में जानकारी जुटाई जा रही है। साथ ही प्रशासन को सख्त निर्देश दिए कि किसी भी रूप में वहां का माहौल खराब नहीं होना चाहिए। जिसको लेकर प्रशासन ने बुधवार में होने वाली महापंचायत को लेकर कड़ा रुख अपनाया और 5 किलोमीटर के दायरे में आने वाले गांव अकबरपुर कालसो, हसनपुर मदनपुर, डाडा पट्टी, खेड़ी शिकोहपुर, खूबबनपुर, मानकमजरा, हसनपुर लतीफपुर व सिकरोढा गांव में धारा 144 लागू करने के साथ ही भारी पुलिस बल भी तैनात कर दिया गया।

Uttarakhand news bulletin | Uttarakhand samachar | 26 अप्रैल 2022

साथ ही बताया कि पूरे क्षेत्र में वीडियो और फोटोग्राफी भी कराई जाएगी यदि कोई भी कानून का उल्लंघन करता पाया गया, तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि बुधवार में आयोजित होने वाली धर्म संसद को लेकर न तो कोई अनुमति है और ना ही दी जाएगी। साथ ही बताया कि प्रशासन द्वारा 33 लोगों के 107ध्16 के चालान भी किए गए हैं और उन्होंने सख्त चेतावनी देते हुए कहा कि प्रशासन किसी भी लापरवाही और चूक बरतने के मूड में नहीं है। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि जिस तरह अन्य राज्यों में हुई इस तरह की घटनाओं को लेकर एसआईटी या राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने हस्तक्षेप किया, लेकिन डाडा जलालपुर की घटना को लेकर किसी भी जांच एजेंसी ने कोई संज्ञान नही लिया, इस पर उन्होंने कहा कि यहां यदि ऐसी कोई आवश्यकता होती तो जरूर जांच एजेंसी आती। इसके साथ ही क्षेत्र में सुरक्षा के मद्देनजर 5 डिप्टी एसपी, 56 दरोगा, 150 सिपाही, 30 महिला सिपाही के साथ ही छह कंपनियां फोर्स की लगाई गई है, ताकि सुरक्षा व्यवस्था को लेकर पुख्ता इंतजाम हो सके। वही इस मौके पर एसएसपी डॉ योगेंद्र सिंह रावत, जेएम अंशुल सिंह, एसपी क्राइम मनोज कुमार कात्याल आदि मौजूद रहे।