NHAI World Record: दुनिया ने देखी भारत की ताकत,105 घंटे और 33 मिनट में बनाया हाईवे, कतर को छोड़ा पीछे

0
423
nhai record

दिल्ली, ब्यूरो :  नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया यानी NHAI ने एक अनोखा वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाकर पूरी दुनिया में भारत का ढंका बजाया है। बता दें कि NHAI ने केवल चार दिन और कुछ घंटे में ही 75 किलोमीटर हाईवे बनाकर तैयार कर दिया है। केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी  ने बुधवार 8 जून को अपने ट्वीटर हैंडल पर इसकी जानकारी दी है। गडकरी ने लिखा है कि NHAI की इस उपलब्धि को गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड (Guinness Book Of World Records) में जगह मिली है। ऐसे में अब कह सकते हैं कि आज दुनिया ने भारत की ताकत देखी है।

मंत्री ने वीडियो में बताया है कि यह स्ट्रेच अमरावती और अकोला जिले के बीच तैयार हुआ है। 75 किलोमीटर लंबा यह सिंगल लेन स्ट्रेच दो लेन वाले 37.5 किलोमीटर लंबे पेव्ड शोल्डर रोड के समतुल्य है। एनएचएआई ने इसे बनाने का काम 3 जून को सुबह 7 बजकर 27 मिनट पर शुरू किया था और जिसे 7 जून को शाम के पांच बजे तक तैयार कर लिया गया। तो कह सकते हैं कि दुनिया ने भारत की ताकत देखी है,जहां भारत ने केवल 105 घंटे और 33 मिनट में हाईवे बनाया है।ये भी पढ़े-टूर्नामेंट से बाहर होने की कगार पर थी ये खिलाड़ी, फिर विश्व रिकॉर्ड किया अपने नाम

tweet 2

बता दें कि केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी  ने अपने ट्वीटर हैंडल पर एक वीडियो मैसेज जारी किया है। जिसमें उन्होने बताया है कि एनएचएआई ने भारत की आजादी के 75 साल हो जाने के मौके पर पीएम मोदी द्वारा शुरू की गई ‘आजादी का अमृत महोत्सव  मुहिम के तहत यह कीर्तिमान बनाया है। उन्होंने बताया कि एनएचएआई ने केवल 105 घंटे और 33 मिनट में एनएच 53 पर 75 किलोमीटर का सिंगल लेन स्ट्रेच तैयार किया है। जिसे बनाने में 36 हजार 634 मीट्रिक टन बिटुमिनस मिक्स का इस्तेमाल किया गया है। इसे 720 मजदूरों ने मिलकर बनाया और टास्क पूरा करने के लिए इंडीपेंडेंट कंसल्टेंट की टीम ने दिन-रात काम किया। गड़करी ने बताया कि हाइवे को बिटुमिनस कंक्रीट से बनाया गया है और इस वर्ल्ड रिकॉर्ड को गिनीज वर्ल्ड रिकार्ड्स ने भी प्रमाणित किया है। गडकरी ने बताया कि इससे पहले बिटुमिनस सड़क निर्माण का गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड फरवरी 2019 में दोहा, कतर में बना था। जहां अस समय 25.275 किलोमीटर लंबी सड़क बनाई गई थी। लेकिन उसे पूरा करने में 10 दिन लग गए थे। ये फी पढ़े-सऊदी अरब ने क्यों लिया ऐसा फैसला ? भारत को दिया बड़ा झटका