उत्तराखंड में Facebook बना आत्महत्या का कारण!

0
67
Nainital high court news

Uttarakhand Devbhoomi Desk: इनदिनों सोशल मीडिया लोगों की लाइफ पर इस तरह से हावी हो चुका है कि इसके (Nainital high court news) बिना कई लोगों के दिन की शुरुआत ही नहीं होती। जहां एक ओर ये लोगों को फ्रेंड्स और रिश्‍तेदारों से जोड़ता है, वहीं दूसरी ओर ये लोगों के दुख का कारण भी बनता जा रहा है। जी हां आपको बता दें कि उत्तराखंड में Facebook लोगों के आत्महत्या का कारण बन गया है।

यहां सोशल मीडिया का गलत इस्तेमाल किया जा रहा है। यहां ऐसे कई मामले सामने आ रहे हैं जहां फेसबुक को कमाई का धंधा बना दिया गया है। बताया जा रहा है कि फेसबुक में फर्जी आईडी (Nainital high court news) बनाकर फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजे जा रहें है फिर लोगो की अश्लील वीडियो बनाकर पैसे की डिमांड की जा रही है।

WhatsApp Image 2022 12 08 at 12.01.01 PM 1

इस मामले में उत्तराखंड हाईकोर्ट ने फेसबुक को नोटिस भेजा था। लेकिन फेसबुक को हाईकोर्ट (Nainital high court news) का जवाब नहीं देना भारी पड़ गया। जिसकी वजह से उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने फेसबुक पर 50 हजार रुपए का जुर्माना लगाया है और अगले साल 16 फरवरी, 2023 तक जवाब पेश करने का एक और मौका दिया। बता दें कि नैनीताल हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश विपिन सांघी व न्यायमूर्ति आरसी खुल्बे की युगलपीठ ने फेसबुक पर अश्लील वीडियो बनाकर ठगी करने के विरुद्ध दायर जनहित याचिका पर बुधवार को सुनवाई की।

यह भी पढ़े:
President Draupadi Murmu in Uttarakhand
आज से दो दिवसीय उत्तराखंड दौरे पर रहेंगी राष्ट्रपति मुर्मू

Nainital high court news: हरिद्वार निवासी आलोक कुमार ने दायर की है जनहित याचिका

बता दें कि हरिद्वार निवासी आलोक कुमार नाम के व्यक्ति ने हाई कोर्ट में याचिका दाखिल कर कहा कि फेसबुक फर्जी आइडी बनाकर फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज जा रही है। रिक्वेस्ट स्वीकारते ही फोटो एडिट करके अश्लील वीडियो बना दी जा रही है। और (Nainital high court news) इसके बदले में पैसे की मांग की जा रही है।

यह भी पढ़े:
Haridwar breaking news
चलती कार पर अचानक कूदा बारहसिंघा, कई घायल

इतना ही नहीं, पैसे ना देने पर वीडियो को इंटरनेट मीडिया पर प्रसारित कर दी जा रही है। वो स्वयं इससे पीड़ित है। और अन्य पीड़ित लोग इसी वजह से आत्महत्या जैसे कदम उठा रहे हैं।

इस मामले में कोर्ट ने फेसबुक से 8 सितंबर 2021 को तीन सप्ताह के भीतर जवाब प्रस्तुत करने के लिए कहा था, लेकिन फेसबुक ने जवाब प्रस्तुत नहीं किया। आपको बता दें कि अभी तक उत्तराखंड में इस तरह के 45 पीड़ितों ने शिकायत की है।

For latest news of Uttarakhand subscribe devbhominews.com