‘‘मंगलौर में भाजपा ने अपने ही पैर में मारी कुल्हाड़ी!’’

0
28

भाजपा हाईकमान ने उतारा कमजोर प्रत्याशी, उठे बगावत के सुर!

भाजपा हाईकमान को फिर से करना चाहिए विचार, ऐसे व्यक्ति को मैदान में उतारा जिसका कोई अस्तित्व ही नहींः ऋषिपाल

रुड़की (दीप रमोला): हरिद्वार जनपद की मंगलौर विधानसभा में भी बगावत के शुर सिर उठाने हो लगे हैं। दबे पांव से ही सही लेकिन पूर्व प्रत्याशी ऋषिपाल बालियान का कहना है कि पार्टी हाईकमान ने इस सीट पर कमजोर प्रत्याशी को चुनावी दंगल में उतारा है। पार्टी हाईकमान को इस बारे में एक बार फिर विचार करना चाहिए। साथ ही उन्होंने कहा कि वह पार्टी के सिपाही होने के साथ ही अपने समर्थकों के अनुसार आगे का निर्णय लेंगे।

uttarakhand

विधानसभा मंगलौर में 2017 में भारतीय जनता पार्टी के सिंबल पर चुनाव लड़ चुके ऋषिपाल बालियान ने आज प्रेस वार्ता कर जानकारी दी कि भारतीय जनता पार्टी ने मंगलौर विधानसभा में कमजोर प्रत्याशी उतारा है। हम लगातार 5 साल से विधानसभा में मेहनत कर रहे हैं। पार्टी ने हमें दरकिनार करते हुए ऐसे व्यक्ति को टिकट दिया है जिनका क्षेत्र में कोई अस्तित्व ही नहीं है। उनका कहना है कि पार्टी आलाकमान को अभी भी विचार-विमर्श कर टिकट बदल देना चाहिए उनका कहना है कि वह इस सीट पर चुनाव लड़े थे। 2012 के बाद 2017 में 15 वोटों का उछाल उन्होंने दिया था।

‘‘मंगलौर में भाजपा ने अपने ही पैर में मारी कुल्हाड़ी!’’

YOU MAY ALSO LIKE

क्योकि यह सीट हमेशा से हाजी और काजी की रहती आयी है, लेकिन उन्होंने 2017 में बहुत अधिक वोट लिए थे जबकि बात करें तो 2012 में 2000 के आसपास बीजेपी प्रत्याशी को वोट मिले थे और 2017 में 17000 वोट के आंकड़ा बीजेपी प्रत्याशी ने पर किया था और इस बार फिर पार्टी आलाकमान ने कमजोर प्रत्याशी इस विधानसभा पर भेजा है वह फिर से 2012 विधानसभा चुनाव की याद दिला सकता है। जबकि यह सीट इस बार भारतीय जनता पार्टी के खाते में जाने वाली थी लेकिन पार्टी ने बालियान को टिकट न देकर अपने पैरों पर कुल्हाड़ी मारने वाला काम किया है।

उन्होंने कहा कि अगर पार्टी आलाकमान प्रत्याशी नहीं बदलती है तो वह उनके साथ लग जाएंगे लेकिन उन्होंने यह भी बोला कि जो उनके समर्थक है अगर वह उन्हें चुनाव मैदान में उतारने के लिए बोलेंगे तो वह निर्दलीय चुनाव मैदान में भी आ सकते हैं। इससे यही माना जाए कि बीजेपी से बगावत कर ऋषिपाल बालियान निर्दलीय चुनाव मैदान में आ सकते हैं। इसी तरह का विरोध उत्तराखंड में कई सीटों पर देखने को मिल चुका है, लेकिन अब देखना होगा कि कि ऋषिपाल बालियान चुनाव मैदान में उतरते हैं या फिर भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी के समर्थन में वोट मांगते हैं।

Follow us on our Facebook Page Here and Don’t forget to subscribe to our Youtube channel Here

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here