Mahar Regiment Subedar त्रिलोक की संदिग्ध परिस्थितियों में ऐसे हुई मौत, घर में मचा कोहराम

0
698
Mahar Regiment Subedar

Uttarakhand News- Dehradun/Haldwani Bureau: हल्द्वानी, ब्यूरो। उत्तराखंड के एक और आर्मी जवान (Mahar Regiment Subedar) की मौत हो गई है। हल्द्वानी निवासी सेना में सूबेदार त्रिलोक सिंह की एक दिन पहले तड़के करीब पांच बजे माॅर्निंग वाॅक से लौटने के बाद मौत हो गई।

वह (Mahar Regiment Subedar Trilok) अपने निमार्णाधीन घर की तीसरी मंजिल पर माॅर्निंग वाॅक के बाद चढ़े थे और फिर वापस ही नहीं आए। काफी देर तक नीचे न आने के बाद परिजन उन्हें देखने निर्माणाधीन तीसरी मंजिल पर गए तो वह बेहोश पड़े मिले।

Mahar Regiment Subedar

तत्काल उन्हें अस्पताल पहुंचाया गया। वहां पर डाॅक्टर्स ने जांच के बाद उन्हें मृतक घोषित कर दिया है। आर्मी की महार रेजीमेंट (Mahar Regiment Subedar) सूबेदार त्रिलोक सिंह की संदिग्ध हालत में हुई मौत के बाद घर में कोहराम मचा हुआ है। बेटा-बेटी और पत्नी के साथ भाई और अन्य परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। वहीं, उनकी मौत के बाद परिजन और सेना की ओर ससम्मान रानीबाग चित्रशिला घाट पर उनका अंतिम संस्कार किया गया।

Mahar Regiment Subedar

त्रिलोक सिंह Mahar Regiment शाहजहांपुर में थे Subedar

दरअसल, हल्द्वानी निवासी त्रिलोक सिंह कार्की सेना की महार रेजीमेंट (Mahar Regiment) शाहजहांपुर सूबेदार के पद पर तैनात थे। सूबेदार त्रिलोक सिंह कार्की पुत्र दिलीप सिंह कार्की (Mahar Regiment Subedar) 1 दिन पूर्व अपने घर के पास ही सुबह 5ः00 बजे पालतू कुत्ते के साथ घूम कर वापस आए थे।

यह भी पढ़ें: Breaking News : उत्तराखंड का 1 SDM ही हो गया लापता, मचा हडकंप; ये नोट छोड़कर गए

यह भी पढ़ें: Uttarakhand Police : 1.5 साल से नहीं दर्ज हुई 2 भैंस चोरी की रिपोर्ट; CM दरबार पहुंचा केस तो सभी हैरान

इसके बाद वह घर के निर्माणाधीन भवन की तीसरी मंजिल पर गए थे, लेकिन काफी देर बाद भी वापस नहीं आए। उसके बाद परिजनों ने ऊपर जाकर देखा तो सूबेदार त्रिलोक सिंह कार्की बेहोश पड़े थे। सूबेदार के परिजनों ने तत्काल उन्हें अस्पताल पहुंचाया जहां डॉक्टरों ने जांच कर उन्हें मृत घोषित कर दिया।

Mahar Regiment Subedar
Mahar Regiment Subedar Trilok Singh

मौत के कारणों का अभी तक कोई पता नहीं, PM भी नहीं करवाया

मौत के कारणों का अभी तक कोई पता नहीं चल पाया। त्रिलोक सिंह के परिवार में पत्नी हेमा कार्की, बेटी मनीषा और बेटा हिमांशु हैं। पुलिस ने बताया कि परिजनों ने सूबेदार के शव का पोस्टमार्टम नहीं करवाया। सेना को सूचना देने के बाद रानीबाग चित्रशीला घाट पर उनका सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। महार रेजिमेंट शाहजहांपुर में तैनात सुविधा सूबेदार मेजर अपने घर हल्द्वानी आए थे।

Mahar Regiment Subedar: 6 सितंबर को छुट्टी पर आए थे त्रिलोक सिंह कार्की

पुलिस विभाग में तैनात Mahar Regiment Subedar त्रिलोक सिंह के भतीजे विजय सिंह कार्की ने बताया कि चाचा 6 सितंबर को छुट्टी पर आए थे और 1 दिन पहले उनकी मौत हो गई। इस तरह अचानक सूबेदार की मौत से घर परिवार में मातम पसरा हुआ है। बच्चों, पत्नी और परिजनों और रिश्तेदारों का रो-रो कर बुरा हाल है।