Loan नहीं चुका पाया तो अपने साथ-साथ परिवार की दे दी जान

0
76
Loan नहीं चुका पाया तो दे दी जान, कहा आदमी मैं बुरा नहीं, पर हालात ....
Loan नहीं चुका पाया तो दे दी जान, कहा आदमी मैं बुरा नहीं, पर हालात ....

Loan नहीं चुका पाया तो दे दी जान 

ये मामला है मध्यप्रदेश के इंदौर का जहां अमित यादव नाम के एक शख्स ने पहले तो अपनी पत्नी और दो बच्चों को मौत के घाट उतारा और फिर खुद फांसी लगाकर अपनी भी जान दे दी। मरने से पहले अमित यादव ने एक सुसाइड नोट लिखा-

”मैं अमित यादव अपने पूरे होश में ये पत्र लिख रहा हूं। जीने की इच्छा मेरी भी है। पर मेरे हालात अब ऐसे नहीं रहे। आदमी में बुरा नहीं हूं। इसमें किसी की कोई गलती नहीं है मेरी ही है। मैंने कई ऑनलाइन एप से Loan ले रखा है पर में Loan भर नहीं पा रहा हूं। कृपया करके पुलिस मेरे परिवार यानी मां बाप सास ससुर को परेशान ना करे। में ही दोषी हूं।

एक विशेष बात मेरे मां बाप को बता दें कि Loan पेनकार्ड से होता है अगर पेनकार्ड धारक मर जाता है तो लोन का कोई अस्तित्व नही रहता। मेंरा Loan किसी को भरने की जरुरत नहीं। में मेरे मां बाप और भाई से बहुत प्यार करता हूं। आपस में घर वाले न लड़ें यहीं मेरी आखिरी इच्छा है। ये पत्र मेंरे घर वालों तक अवश्य पढ़वा दें। म्मी मे जा रहा हूं।”

Loan नहीं चुका पाया तो दे दी जान, कहा आदमी मैं बुरा नहीं, पर हालात ....
Loan नहीं चुका पाया तो दे दी जान, कहा आदमी मैं बुरा नहीं, पर हालात ….

अमित यादव अपने परिवार के साथ इंदौर में रहते थे लेकिन अमित ने जब मंगलवार को घरवालों का फोन नहीं उठाया तो भागीरथपुरा में ही रहने वाले उनके ससुराल पक्ष को सूचित किया गया। जब वे लोग वहां पहुंचे थे काफी खटखटाने के बाद कोई दरवाजा नहीं खोल रहा था उन्होंने पुलिस को इस बात की सूचना दी. मौके पर पहुंची पुलिस ने दरवाजा तोड़ा तो देखा अमित यादव का शव पंखे से लटक रहा था और साथ ही दोनों बच्चे और पत्नी वही पर मूर्छित अवस्था में पड़े थे। जब उनकी नब्ज टटोली गई तो वो सभी मृत पाए गए।

Loan नहीं चुका पाया तो दे दी जान, कहा आदमी मैं बुरा नहीं, पर हालात ....
Loan नहीं चुका पाया तो दे दी जान, कहा आदमी मैं बुरा नहीं, पर हालात ….

Loan की प्रक्रिया की जांच कराई जाएगी

वहीं इस मामले को लेकर गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि बहुत दुखद घटना हुई है, ऑनलाइन ऐप से Loan की प्रक्रिया की जांच कराई जाएगी।

Loan नहीं चुका पाया तो दे दी जान, कहा आदमी मैं बुरा नहीं, पर हालात ....
Loan नहीं चुका पाया तो दे दी जान, कहा आदमी मैं बुरा नहीं, पर हालात ….

 

ये भी पढे़ं : Breaking News: Uttarakhand Cabinet Meeting समाप्त, ये 15 अहम प्रस्ताव हुए पारित