Haridwar Murder Case: उधार न चुकाने पर बेरहमी से दोस्त को उतारा मौत के घाट

Haridwar Murder Case
अंकित हत्याकांड का आरोपी गिरफ्तार

Uttarakhand News – Haridwar Murder Case में पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार करते हुए चौंकाने वाला खुलासा किया है। तीन महिने पहले हुए अंकित हत्याकांड में पुलिस ने खुलासा किया है कि पांच हजार न चुकाने की वजह से उसके दोस्त ने ही उसे मौत के घाट उतार दिया। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

Haridwar Murder Case
हरिद्वार अंकित हत्याकांड का आरोपी गिरफ्तार

Haridwar Murder Case: ये है पूरा मामला

Haridwar Murder Case का मामला 13 जून का है। जब हरिद्वार के लेबर चौक सिडकुल में अंकित नाम के एक व्यक्ति की चाकू से गोदकर हत्या कर दी गई थी। मृतक अंकित अमरोहा का रहने वाला था और सिडकुल में एक फैक्टरी में काम करता था। उसकी हत्या के बाद उसके परिजनों ने हत्या का मुकदमा दर्ज करवाया था। जिसके बाद पुलिस लगातार तीन माह से आरोपी की तलाश कर रही थी। लेकिन इस Haridwar Murder Case का खुलासा नहीं हो पा रहा था।

Haridwar Murder Case
Haridwar Murder Case

Haridwar Murder Case: ऐसे किया पुलिस ने मामले का खुलासा

इस Haridwar Murder Case हरिद्वार पुलिस के लिए पहेली बन कर रह गई थी। पुलिस ने हर एंगल से छानबीन की लेकिन पुलिस आरोपी को नहीं पकड़ पा रही थी। तीन माह से पुलिस सभी संदिग्धों से पूछताछ कर चुकी थी। इसके बाद पुलिस ने क्षेत्र के सीसीटीवी फुटेज खंगाले, इन सीसीटीवी फुटेज में पुलिस को सफेद टीशर्ट में एक संदिग्ध दिखाई दिया। जिसके बाद पुलिस ने अंकित के ही दोस्त सुनील मिश्रा को संदेह के आधार पर पूछताछ के लिए बुलाया। पहले सुनील पुलिस को गुमराह करता रहा लेकिन बाद में सख्ती करने पर उसने अपना जुर्म कबूल कर दिया।

Haridwar Murder Case: पांच हजार के लिए मार दिया दोस्त को

चौंकाने वाला खुलासा करते हुए पुलिस ने बताया कि अंकित ने अपने दोस्त सुनील मिश्रा से मई के महीने पांच हजार उधार लिए थे, तब अंकित ने कहा था कि वह एक माह में उसके रुपये वापस लौटा देगा। लेकिन जब एक माह बाद भी अंकित रुपये नहीं लौटाए। अंकित रुपये लौटाने के लिए आनाकानी करता रहा। एक दिन दोनों के बीच पांच हजार के लिए लड़ाई हो गई और सुनील ने बेरहमी से अंकित की हत्या कर दी।

Dr. HS Baveja : प्रोफेसर से उद्यान निदेशक बने बावेजा के HP के बाद UK में बड़े ‘खेल’, बचाने में जुटी ‘सरकार’?