‘‘हर हाल में जाऊंगा जामा मस्जिद, वैमनस्यता तब नहीं फैलती जब मुझे और नुपूर को मरवाने की खुली धमकियां देते हैं?’’

0
45
‘‘हर हाल में जाऊंगा जामा मस्जिद, वैमनस्यता तब नहीं फैलती जब मुझे और नुपूर को मरवाने की खुली धमकियां देते हैं?’’
‘‘हर हाल में जाऊंगा जामा मस्जिद, वैमनस्यता तब नहीं फैलती जब मुझे और नुपूर को मरवाने की खुली धमकियां देते हैं?’’

जूना अखाड़ा के महामंडलेश्वर यति नरसिंहानंद ने किया एसडीएम गाजियाबाद के नोटिस का वीडियो जारी कर विरोध

हरिद्वार, ब्यूरो। अपने बयानों के लिए अक्सर सुर्खियों में रहने वाले गाजियाबाद के डासना देवी मंदिर महंत और जूना अखाड़ा के महामंडलेश्वर यति नरसिंहानंद गिरि ने एक दिन पहले एक वीडियो जारी कर शुक्रवार 17 जून को दिल्ली की जामा मस्जिद जाने का ऐलान किया था और वहां पर पैगंबर और मुस्लिम धर्म से संबंधित किताबें, सीडी और कंप्यूटर लेकर सभी मौलानाओं को सच्चाई बताएंगे। अब इस बयान का संज्ञान एसडीएम गाजियाबाद ने लिया है और नोटिस जारी कर अपने कार्यक्रम को निरस्त करने के लिए कहा है। इसके बाद जूना अखाड़ा के महामंडलेश्वर यति नरसिंहानंद गिरि ने एक और वीडियो जारी किया है और कहा कि वह हर हाल में 17 जून को दिल्ली की जामा मस्जिद जाएंगे।’’

‘‘हर हाल में जाऊंगा जामा मस्जिद, वैमनस्यता तब नहीं फैलती जब मुझे और नुपूर को मरवाने की खुली धमकियां देते हैं?’’

 

उन्होंने कहा कि जब दूसरे धर्म विशेष के लोग मुझे और नुपूर शर्मा को मरवाने की खुली धमकियां देते हैं तब वैमनस्यता नहीं फैलती। कहा कि कट्टरपंथियों को खुश करने के लिए सरकार लोकतांत्रिक अधिकार को कुचलना चाहती है। बता दें कि गाजियाबाद डासना इलाके के देवी मंदिर महंत और जूना अखाड़ा के महामंडलेश्वर यति नरसिंहानंद गिरि के 17 जून को दिल्ली जामा मस्जिद जाने के ऐलान के बाद एसडीएम गाजियाबाद ने नोटिस जारी किया। इस नोटिस में जामा मस्जिद जाने के कार्यक्रम को निरस्त करने के लिए कहा गया है। इसके बाद अब यति नरसिंहानंद ने एक और वीडियो जारी कर नोटिस का विरोध किया है। उन्होंने वीडियो में कहा कि, ‘‘17 जून को वह हर हाल में दिल्ली जामा मस्जिद जाएंगे।

दरअसल, मंगलवार को यति नरसिंहानंद गिरि ने वीडियो जारी कर कहा कि वह 17 जून को दिल्ली जामा मस्जिद में कुछ कंप्यूटर और किताबें लेकर अकेले जाएंगे, ताकि वह देश के मौलानाओं को सच्चाई बता सकें, लेकिन सरकार ने मस्जिद जाने से रोकने के लिए नोटिस भेजा है। नोटिस में कहा है कि जामा मस्जिद में जाने से दो वर्गों में वैमनस्यता फैल सकती है। यति ने कहा कि जब दूसरे वर्ग के लोग मुझे और नुपूर शर्मा को मरवाने की खुली धमकियां देते हैं तब वैमनस्यता नहीं फैलती। कहा कि कट्टरपंथियों को खुश करने के लिए सरकार लोकतांत्रिक अधिकार को कुचलना चाहती है।