पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत की प्रेशर पॉलिटिक्स आखिर उनके काम आ ही गई। आज दिल्ली में राहुल गांधी के साथ हुई बैठक मे यह साफ हो गया है, कि हरीश रावत के नेतृत्व में ही चुनाव लड़ा जायेगा और मुख्यमंत्री का चेहरा चुनाव के लिए फाइनल होगा।

जिस तरह से पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने अपने ट्वीट के द्वारा कांग्रेस हाईकमान तक को हिला दिया। इसके बाद हरीश रावत सहित नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह, प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल और पूर्व मंत्री यशपाल आर्य को दिल्ली तलब किया गया। इसके बाद आज राहुल गांधी के साथ इन सभी नेताओं की बैठक हुई और इस बैठक में निर्णय लिया गया है कि हरीश रावत के नेतृत्व में उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव लड़ा जायेगा। इसमें सभी हरीश रावत का सहयोग करेंगे। बैठक के बाद इस बात की जानकारी अध्यक्ष गणेश गोदियाल और हरीश रावत ने दी। मुख्यमंत्री चेहरे की बात पर हरीश रावत ने कहा कि चुनाव के बाद पार्टी हाईकमान विधानदल के साथ बैठक कर के सीएम पर मोहर लगायेगी। इस बैठक के बाद यह भी साफ हो गया कि प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव को प्रदेश प्रभारी पद से नहीं हटाया जा रहा है। इसका कारण भी यह है कि कांग्रेस चुनाव के समय इस तरह का फैसला नहीं लेना चाहती है। लेकिन इस बैठक के बाद यह साफ हो गया है कि हरीश रावत अपनी बात मनवाने के लिए जिस तरह की प्रेशर पॉलिटिक्स कर रहे थे उस में वे सफल रहे।

https://devbhoominews.com Follow us on Facebook at https://www.facebook.com/devbhoominew…. Don’t forget to subscribe to our channel https://www.youtube.com/devbhoominews

Leave your comment

Your email address will not be published.