आशियाना बचाने को बनभूलपुरा गफूर बस्ती के सैंकडों लोगों ने किया डीएम दफ्तर कूच

0
224

हल्द्वानी (पंकज अग्रवाल): रेलवे और निगम प्रशासन द्वारा अतिक्रमण हटाने को लेकर कवायद चल रही है। लगातार बैठकों को दौर जारी है और अतिक्रमण हटाने के लिए मास्टर प्लान बनाया जा चुका है, वहीं दूसरी ओर अतिक्रमण हटाने को लेकर कई संगठन और सामाजिक कार्यकर्ता भी मुखर होने लगे हैं। सोमवार को इसी कड़ी में बनभूलपुरा क्षेत्र और गफूर बस्ती के सैकड़ों लोग डीएम कैंप कार्यालय पहुंचे जहां उनकी अनुपस्थिति में सिटी मजिस्ट्रेट ऋचा सिंह को उन्होंने ज्ञापन सौंपते हुए कहा कि नगर निगम को पहले अपनी भूमि का सही से सीमांकन करवाना चाहिए। इस में तकरीबन 4365 लोगों को अतिक्रमणकारी घोषित किया गया है पर अभी यह स्पष्ट नहीं है कि ये लोग रेलवे की भूमि पर बसे हैं या फिर नगर निगम के।

dm avasa kooch

वहीं, दूसरी ओर इस जगह पर 1935 से भी पहले से लोग बसे हैं जो हाउस टैक्स,बिजली का बिल जमा करते आ रहें हैं साथ ही इनके पास जमीन के पट्टे तक हैं तो फिर यह अतिक्रमणकारी कैसे हो गए। वहीं रेलवे के इज्जतनगर मंडल में तमाम लोगों को एक्स पार्टी को घोषति किया जा चुका है जो कि समझ से परे हैं, इस क्षेत्र में लोगों की धार्मिक आस्था भी जुड़ी हुई है यहां पर मजार,मस्जिद और कब्र तक हैं, रेलवे तथ्यों को तोड़ मरोड़ कर पेश कर रही है। सरकार और प्रशासन को चाहिए की बस्ती को उजाड़ना ही है तो पहले बस्ती के लोगों को पुनर्वास भी करने के लिए सरकार और प्रशासन को सोचना होगा। वहीं महिला सामाजिक कार्यकर्ताओं ने भी कहा कि अतिक्रमण हटाने के बाद बेघर लोगों को कहां विस्थापित किया जाएगा यह किसी ने नहीं सोचा महिलाएं कैसे रहेंगी अपनी बेटियों के साथ इस बात को भी सोचना चाहिए था मगर न तो सरकार ने इस पर कुछ कहा है अब तक न ही प्रशासन ने। उन्होंने कहा कि इन लोगों को किसी योजना के अंतर्गत सम्मिलित कर आवास बना कर दिए जा सकते हैं मगर सरकार ने अभी आगे की कोई सूरत बयां नहीं की है जिससे लोगों को अब डर लगने लगा है। इस मौके पर फिलहाल सिटी मजिस्ट्रेट ऋचा सिंह ने कहा कि तमाम पहलुओं को जांचा जाएगा और न्यायालय के आदेश को देखते हुए आगे की कार्रवाई की जाएगी।

dm ntl