अंकिता मर्डर केस : एसआइटी ने की रिसॉर्ट मे बुकिंग करवाने वालों की पहचान

0
258
Ankita Murder case
Ankita Murder case
अंकिता मर्डर केस 
में वीआईपी सर्विस
 देने के मामले में 
अभी पर्दा नहीं 
उठ पाया है। 

Ankita Murder case

अंकिता मर्डर केस में वीआईपी सर्विस देने के मामले में अभी पर्दा नहीं उठ पाया है। इस घटना से पहले और बाद में रिसॉर्ट में बुकिंग करवाने वालों की पहचान एसआइटी ने कर ली है। साथ ही इन में से कुछ के बयान भी दर्ज कर लिए गए हैं। पुलिस मुख्यालय के प्रवक्ता वी मुरुगेशन ने बताया कि रिसॉर्ट में वेबसाइट और वाट्सएप के माध्यम से बुकिंग होती थी।

Ankita Murder case अक्टूबर पहले सप्ताह में थी पार्टी

वहीं अक्टूबर पहले सप्ताह में जन्मदिन की एक पार्टी होनी थी, पार्टी दिल्ली की थी, जिनके बयान भी दर्ज कर लिए गए हैं।

उन्होंने बताया कि चार गवाहों के बयान कोर्ट में दर्ज करवाए जा चुके हैं, ताकि बाद में वे मुकरे ना।

इससे पहेले अंकिता हत्याकांड में SIT, 800 अधिक मोबाइल नंबरों को भी खंगाल रही थी। ये वो मोबाइल नंबर थे जो अंकिता की हत्या के 24 घंटे पहले और 24 घंटे बाद तक चीला नहर क्षेत्र में सक्रिय थे।

Ankita Murder case
Ankita Murder case

एसआईटी ये पता लगाने का प्रयास कर रही थी कि आरोपितों ने घटना वाले दिन, उससे पहले या बाद में संबंधित क्षेत्र में किस किससे बातचीत की है। ताकि कड़ी से कड़ी को जोड़कर हर रहस्य की तह तक पहुंचा जा सके।

एसआइटी की ओर से जांच में लगाई गई एसटीएफ की सर्विलांस टीम अपने स्तर पर जांच कर रही है। एसआइटी को अभी तक पुलकित, सौरभ भास्कर और अंकित गुप्ता के मोबाइल मिल चुके हैं।

Ankita Murder case

टीम के पास अभी तक ये जानकारी है कि पुलकित के पास एक मोबाइल है। वहीं रिसॉर्ट कर्मचारियों की माने तो उसके पास अक्सर तीन मोबाइल देखे जाते थे।

अंकिता हत्याकांड में एसआइटी इलेक्ट्रानिक साक्ष्यों की जांच से घटनास्थल की पुष्टि कर चुकी है। अब एसआइटी के समक्ष सबसे बड़ी चुनौती पुलकित के उन वीआइपी मेहमानों का पता लगाना है, जिनको वनन्तरा रिसॉर्ट में स्पेशल सर्विस देने के लिए अंकिता पर दबाव डाला जा रहा था।

ये भी पढे़ं : अंकिता हत्याकांड : रिसॉर्ट कर्मचारियों ने उठाया पुलकित के एक और राज से पर्दा