Saba Haider यूपी की बेटी लड़ेगी चुनाव,अमेरिकी राष्ट्रपति ने बनाया उम्मीदवार

0
66
SABA HAIDER

Saba Haider   कौन हैं Ghaziabad की Saba Haider  

गाजियाबाद की रहने वाली भारतीय मूल की महिला हैं Saba Haider.अब सबा अमेरिका में काउंटी बोर्ड का चुनाव लड़ेंगी। अमेरिकी राष्ट्रपति Joe Biden ने उन्हें अपनी Democratic Party से उम्मीदवार बनाया है. पहले भी सबा 2021 में स्कूल बोर्ड का चुनाव लड़ चुकीं हैं.

Saba Haider भारत से अमेरिका तक का सफर 

बताते चलें कि Saba Haider 2007 में अपने पति तबरेज अली के साथ कंपनी के काम से अमेरिका गयीं थीं बाद में उन्होंने खुद वहां job consultant का काम शुरू कर दिया। वर्तमान में सबा हैदर अमेरिका में करीब 10 साल से yoga को बढ़ावा दे रही हैं और आज बहुत मशहूर yoga trainer बन चुकीं हैं.

Saba Haider सामाजिक कार्य और ख्याति से अमेरिकी राष्ट्रपति प्रभावित, बनाया उम्मीदवार

SABA HAIDER

जॉब कंसलटेंट से लेकर योगा ट्रेनर और फिर अलग अलग सामाजिक कार्यों की वजह से अमेरिकी राष्ट्रपति सबा हैदर से बहुत प्रभावित हुए और उन्होंने सबा को अपनी Democratic Party से चुनाव लड़ने का आमंत्रण दिया। इस बात से Saba  बहुत खुश हैं। कई दौर के साक्षात्कार में जहां कई उम्मीदवारों को निराशा हाथ लगी वहीं Saba के सामाजिक कार्य और दायरे को देखते हुए उन्हें उम्मीदवार बनाया गया। Saba  इस चुनाव में [अमेरिकी काउंटी बोर्ड] में भारतीय मूल की अकेली दावेदार हैं.  

Saba Haider का मुकाबला Republican Party के उम्मीदवार से 

अमेरिका के काउंटी बोर्ड का चुनाव इस बार 6 नवंबर को होना है और इस बार बड़ा दिलचस्प मुकाबला दोनों डेमोक्रेटिक और रिपब्लिकन पार्टी के बीच में देखने को मिलेगा। काउंटी बोर्ड चुनाव में जहां 10 लाख लोग अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे उसमे  सबा सबसे पहले वोट करेंगी.

Saba Haider भारतीय मूल की एकमात्र उम्मीदवार 

SABA HAIDER

आज हम सब के लिए ख़ुशी का पल है जब हमारे देश और हमारे उत्तर प्रदेश की बेटी जिसने अपना सफर 2007 में एक छोटी नौकरी से शुरू किया था आज वो अपनी मेहनत और काबिलियत से इस मुकाम पर पहुंची है. आप सब को जानकर ख़ुशी होगी की अमेरिकी राष्ट्रपति ने कई उम्मीदवारों को रिजेक्ट करके सबा को अपनी पार्टी का उम्मीदवार चुना। वो भारतीय मूल की एकमात्र दावेदार हैं जो चुनाव् लड़ रही हैं.

ये भी पढ़ेंPakistan Mithi City : इस शहर में मुसलमानों से ज्यादा रहते हैं हिंदू, एकता की मिसाल देता है ये शहर