प्रतियोगिता परीक्षा देने ऋषिकेश आई किशोरी छात्रा का फिसला पैर, गंगा के तेज बहाव में लापता

0
444

ऋषिकेश/देहरादून, ब्यूरो। उत्तराखंड के हरिद्वार और ऋषिकेश में लगातार गंगा में डूब कर लोग अकाल मौत मर रहे हैं आज भी एक 18 वर्षीय युवती मुनी की रेती थाना क्षेत्र में गंगा के तेज बहाव में बहते हुए लापता हो गई जानकारी के अनुसार युवती अपने चार दोस्तों के साथ एक प्रतियोगी परीक्षा देने के लिए ऋषिकेश आई थी इस दौरान वह गंगा के घाट पर आए थे जैसे ही गंगा में उतरी तो पैर फिसलने से बेकाबू होते हुए गंगा नदी के तेज बहाव में लापता हो गई। पुलिस को सूचना मिलने के बाद एसडीआरएफ पोस्ट को मौके पर रेस्क्यू के लिए सूचित किया गया। मौके पर पहुंची एसडीआरएफ पोस्ट की डीप डाइविंग टीम युवती की तलाश में जुटी हुई है। खबर लिखे जाने तक उसका कोई पता नहीं चल पाया है।

lapata 02

मुनिकीरेती, ऋषिकेश में किशोरी गंगा नदी में डूबी, SDRF ने चलाया रेस्क्यू ऑपरेशन

आज सोमवार 8 अगस्त 2022 को थाना मुनिकीरेती ने SDRF को सूचित किया कि खारा स्रोत के पास योग निकेतन घाट पर एक किशोरी गंगा नदी में डूब गई है। सूचना मिलने के बाद SDRF पोस्ट ढालवाला से रेस्क्यू टीम मय उपकरण SI सचिन रावत के हमराह तत्काल घटनास्थल के लिए रवाना हुई।

lapata 000

जानकारी के अनुसार किशोरी आयुषी चमोली पुत्री दिनेश चमोली (18), ग्राम- पाटा, जनपद टिहरी गढ़वाल की रहने वाली है।वह अपने 4 साथियों के साथ प्रतियोगिता परीक्षा देने ऋषिकेश आयी थी। घाट पर अपने दोस्तों के साथ घूमते समय अचानक पैर फिसलने से गंगा की तेज लहरों की चपेट में आकर लापता हो गयी। SDRF की रेस्क्यू टीम घटना स्थल के आसपास के संभावित स्थानों पर गहन सर्चिंग कर रही है। गंगा नदी का जल स्तर काफी बढ़ा हुआ है। सर्चिंग की जा रही परन्तु किशोरी का अभी कुछ पता नहीं चल पाया है। लगातार गंगा किनारे बसे शहरों हरिद्वार ऋषिकेश में लोग हादसे का शिकार होकर गंगा नदी में डूब रहे हैं कई लोग पानी के बहाव का अंदाजा नहीं लगा पाते और गंगा के तेज बहाव में बहते हुए डूबकर अकाल मौत मर रहे हैं गंगा किनारे ऋषिकेश में काफी चौड़ा होने के कारण भी पुलिस सभी पर निगरानी नहीं रख पाती। किशोरी छात्रा की मौत के बाद परिजनों का रो रो कर बुरा हाल है। प्रतियोगिता परीक्षा देने के लिए आई युवती की अब लाश भी परिजनों को नहीं मिल पा रही है। अब देखना होगा कि किशोरी के शव को SDRF बरामद कर पाती है या नहीं।