पिथौरागढ़ (गौरव उपाध्याय): पुलिस की तत्परता से एक नाबालिग की शादी मेहंदी रात के बाद रोक दी गई है। 10 जून 2022 को बेरीनाग के जमुनानगर निवासी एक यक्ति की नाबालिग बेटी की शादी होनी थी। गांव में ही शादी से पहले मेहंदी की रस्में भी पूरी हो चुकी थी, लेकिन किसी ने पुलिस को 112 नंबर पर फोन कर नाबालिग की शादी करवाने की शिकायत की। पुलिस ने मामले में तत्परता दिखाई और थानाध्यक्ष बेरीनाग मनोज पांडे मय पुलिस टीम गांव पहुंचे और जांच की तो वास्तव में लड़की नाबालिग निकली। पुलिस ने परिजनों को समझाया और ऐसा न करने की सलाह दी और बालिग होने पर ही बेटी की शादी कराने को कहा। परिजनों ने भी अपनी गलती मानते हुए शादी फिलहाल रोक दी है।

बता दें कि एक दिन पहले ही बेरीनाग क्षेत्र में हो रही नाबालिक की शादी को थाना बेरीनाग पुलिस ने रुकवा दिया। 112 के माध्यम से थाना बेरीनाग में सूचना मिली कि जमुनानगर, बेरीनाग निवासी एक व्यक्ति अपनी नाबालिग बेटी की शादी करा रहा है। थानाध्यक्ष बेरीनाग मनोज पाण्डे के नेतृत्व में पुलिस टीम और 112 हाईवे पेट्रोल के कर्मचारी व्यक्ति के घर पहुँचे। पुलिस को पूछताछ करने पर पता चला कि वह अपनी लड़की की शादी 10 जून 2022 को हल्द्वानी के एक बारात घर में करा रहे हैं। लड़की के पिता से उसके प्रमाण पत्र दिखाने को कहा गया। प्रमाण पत्र देखने पर पता चला कि बेटी की उम्र अभी 17 ही साल है। पुलिस टीम ने इस व्यक्ति को कानून के बारे में अवगत कराया गया और बताया कि नाबालिग की शादी कराना अपराध है। इसके बाद परिजनों ने भी अपनी गलती स्वीकार करते हुए लड़की के बालिग होने पर ही उसकी शादी कराने की बात कही गई है। बता दें कि इस नाबालिग का महिला संगीत हो चुका था और अगर पुलिस तत्परता नहीं दिखाती तो उसकी शादी को भी कोई शायद ही रोक पाता।