MLA शपथ ग्रहण…कुछ बोले संस्कृत, कुछ गढ़वाली तो कुछ हिंदी में लेते दिखे प्रतिज्ञा

0
361

उत्तराखंड की पांचवीं विधानसभा के सदस्यों का शपथ ग्रहण समारोह

देहरादून, ब्यूरो। उत्तराखंड की पांचवीं विधानसभा के सभी 70 सदस्यों ने आज विधानसभा भवन देहरादून में शपथ ली है। इनमें से अधिकांश विधायकों ने संस्कृत में शपथ ली। हालांकि कई विधायक संस्कृत का सही वाचन नहीं कर पाए या फिर यूं कहें कि उन्होंने हिंदी में ही शपथ लेना उचित समझा। इस दौरान एक विधायक ऐसे भी थे जिन्होंने पहले गढ़वाली बोली में शपथ ली, हालांकि इसके बाद उन्होंने संस्कृत में भी शपथ ली। चुनकर आए कई विधायक ऐसे भी हैं जो पांचवीं या छठवीं बार विधायक के तौर पर शपथ ग्रहण कर रहे हैं।

उत्तराखंड में चुनाव परिणाम आने के 11 दिन बाद मुखिया और मंत्रिमंडल का चयन तो नहीं हो पाया है लेकिन विधानसभा चुनाव जीतकर आए सभी दलों और निर्दलीय विधायक शपथ ले रहे हैं। सुबह करीब सवा 11 बजे से शुरू हुए शपथ ग्रहण समारोह में अधिकांश विधायक संस्कृत में शपथ ग्रहण करते हुए देखे गए। नई टिहरी से विधायक किशोर उपाध्याय ने तो पहले गढ़वाली बोली में शपथ ली, इसके बाद उन्होंने संस्कृत में भी शपथ ली। वहीं, कई ऐसे भी एमएलए थे जो संस्कृत का वाचन नहीं कर पाए। या यूं कहें कि उन्होंने हिंदी भाषा में ही शपथ लेना उचित समझा।

pritam singh

उत्तराखंड में हर विधानसभा चुनाव में करीब-करीब ऐसा ही माहौल अभी देखा जाता रहा है। कई बार मुख्यमंत्री अकेले शपथ लेते देखे गए और मंत्रीमंडल ने बाद में शपथ ली। वहीं, इस बार पहले विधायक के तौर पर सभी शपथ ले रहे हैं। प्रदेश का मुखिया और मंत्रिमंडल में कौन कौन शामिल होगा इस पर अभी संशय बरकरार है। आज प्रदेश के पर्यवेक्षक राजनाथ सिंह करीब साढ़े चार बजे से भाजपा मुख्यालय में विधायक दल की बैठक में नए मुखिया का नाम सार्वजनिक कर सकते हैं। इसके साथ ही मंत्रीमंडल को लेकर भी आज निर्णय हो सकता है। 11 दिन बाद भी भाजपा प्रदेश में पूर्ण बहुमत होते हुए सरकार गठित नहीं कर पाई है।