Marriages in China decline: जानें, चीन में क्यों नहीं हो रही हैं शादियां..

0
34

Marriages in China decline : चीन में लोग अब शादी करने से कतरा रहे

चीन में जन्म दर घटता जा रहा है और वहां की आबादी में गिरावट देखने को मिल रही है। इस बीच एक चौंकाने वाली रिपोर्ट सामने आ रही है।(Marriages in China decline) यह रिपोर्ट शादी को लेकर है। चीन में लोग अब शादी करने से कतरा रहे हैं। आपको बता दें कि साल 2021 में शादी के सबसे कम रजिस्ट्रेशन करवाएं गए हैं। ऐसा 36 सालों में पहली बार देखने को मिला है कि शादी के लिए इतने कम रजिस्ट्रेशन करवाएं गए हो।

Marriages in China decline

2021 में 70.64 लाख जोड़ों ने शादी के लिए रजिस्ट्रेशन कराया

कभी ऐसा था जब जनसंख्या विस्फोट को देखते हुए चीन में दशकों तक एक ही बच्चे को पैदा करने की नीति लागू की गई थी। अब ऐसी स्थिति आ चुकी है कि साल 2021 में चीन में 80 लाख से कम जोड़ों की ही शादी के लिए रजिस्ट्रेशन हुआ है। अब जो रिपोर्ट सामने आई है, उसके अनुसार पिछले साल चीन में केवल 70.64 लाख जोड़ों के द्वारा शादी के लिए रजिस्ट्रेशन कराया गया है।

Marriages in China decline

Marriages in China decline: 2020 की तुलना में 0.4 फीसदी अधिक

1986 के बाद शादी के लिए रजिस्ट्रेशन का सबसे कम आंकड़ा है। 2020 में जिन लोगों ने शादी के लिए रजिस्ट्रेशन कराया। (Marriages in China decline) 2021 में वह आंकड़ा 6.1 प्रतिशत से कम रहा। रिपोर्ट से इस बात की जानकारी मिल रही है कि लगातार आठ सालों से शादियों की संख्या में गिरावट आती जा रही है। रिपोर्ट से पता चलता है कि पिछले साल चीन में 25 से 29 साल के लोगों ने जो शादी की, उसका प्रतिशत 35.3 था। यह 2020 की तुलना में 0.4 फीसदी अधिक है।

Marriages in China decline

जनसंख्या सबसे धीमी गति से बढ़ रही

‘ग्लोबल टाइम्स’ जो कि चीन का सरकारी अख़बार है, उसने विशेषज्ञों के हवाले से जानकारी दी है कि चीन में इस वक्त देर से शादी का चलन है, जिसके चलते जो चीन में तीन बच्चों की अनुमति देने की नीति प्रभावित होगी, इससे जनसंख्या संबंधी दिक्कतें और भी अधिक बढ़ जायेंगी। (Marriages in China decline) रिपोर्ट से इस बात कि भी जानकारी मिल रही है कि देश की जो जनसंख्या है वो सबसे धीमी गति से बढ़ रही है।

यह भी पढ़ें : UN Report Xinjiang 2022: उइगर मुस्लिमों को बनाया जा रहा बंधक, जबरन कराई जा रही नसबंदी

https://devbhoominews.com/un-report-xinjiang-2022/