Tuesday, September 27, 2022
HomeदेशHindi Diwas 2022: हमारे भारत देश के माथे की बिंदी- हमारी मातृभाषा...

Hindi Diwas 2022: हमारे भारत देश के माथे की बिंदी- हमारी मातृभाषा हिन्दी, जो दिलाये पश्चिमी सभ्यता से मुक्ति

Hindi Diwas 2022 हर स्वाभिमानी देश के लिए जरूरी है मातृभाषा, जैसे हमारी हिन्दी भाषा

आज Hindi Diwas सारा देश मना रहा है। आज ही के दिन 14 सितम्बर 1949 को हिन्दी को राजभाषा के रूप में स्वीकृति मिली थी। आज राजभाषा के रूप में हिन्दी की स्मृति ऐतिहासिक महत्व की है लेकिन वास्तविक महत्व तो यह है की हिन्दी और उसके साथ सभी क्षेत्रीय भाषाओं को कामकाज की भाषा के रूप में सम्मान मिले। किसी वजह से अँग्रेजी को 10 वर्षों तक संपर्क भाषा के रूप में उपयोग में लाया गया लेकिन अब धीरे धीरे यह माना जाने लगा है की हिन्दी हमारी मातृभाषा के साथ ही बहुसंख्यकों की भी भाषा है इसलिए थोड़ा समय लगा लेकिन अब हिन्दी को समस्त भारत के लिए संपर्क भाषा के रूप में विकसित किया जा रहा है।

Hindi Diwas 2022 हिन्दी भाषा का बढ़ता महत्व, करता हम  सबको गौरवान्वित

hindi diwas 2022

जैसा की अब कामकाज की भाषा के रूप में हिन्दी की स्वीकार्यता दिनों दिन बढ़ती जा रही है और अब हमारे देश के संसद के दोनों सदनों में भी हिन्दी में कामकाज का प्रतिशत बढ़ा है। अब हमारे सभी माननीय सांसद गण भी अँग्रेजी के बजाय हिन्दी को अपनी चर्चा में प्रधानता देते हैं। हमारे लिए गर्व की बात है की संयुक्त राष्ट्र भी अब हिन्दी में कार्य कर रहा है और अमेरिकी सरकार ने अपने विदेश मंत्रालय की website पर भी हिन्दी अनुवाद प्रारम्भ कर दिया है।

हमारे देश की प्रतिष्ठित प्रौद्योगिकी संस्थानो में हिन्दी सहित भारतीय भाषाओं के माध्यम से पढ़ाई की पहल हुई है। हिन्दी सहित अनेक भारतीय भाषाओं में विधि स्नातक कार्यक्रमों में इसको अनुमति मिली और वर्ष 2022 में चिकित्सा की पढ़ाई में भी हिन्दी भाषा का प्रयोग शुरू हो गया है जो सराहनीय है।

ये भी पढ़ें  Pitra Paksha 2022: श्राद्ध में इन बातों का रखें ध्यान, वरना पितृ हो जाएंगे नाराज

Hindi Diwas 2022  ज्ञान और अनुसंधान के रूप में भी हिन्दी भाषा ने प्रगति की 
hindi diwas 2022

राष्ट्रीय नीति 2020 के क्रियान्वयन के अभियानों के साथ हिन्दी ज्ञान और अनुसंधान की भाषा के रूप में भी विकसित होने लगी। इस नीति का ध्येय है एक ऐसी पीढ़ी तैयार करना, जो भारत की सांस्कृतिक परंपरा से ओतप्रोत हो, चिंतन और कल्पना से युक्त हो और जिसमें भारत और भारतीय जीवन परंपरा के प्रति गौरव का भाव हो,साथ ही साथ भारत को विश्व गुरु के रूप में स्थापित करने का भी संकल्प हो।

Hindi Diwas  पर आप सबको हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ। आये और संकल्प लें की हिन्दी को देश में ही नहीं वैश्विक स्तर पर पहचान दिलाएँ।

For Latest National News Subscribe devbhoominews.com

 

RELATED ARTICLES

Most Popular