Disproportionate Assets: 3 सालों में पूर्व आईएएस रामविलास यादव ने बना ली 2600 फीसदी अधिक संपत्ति

0
145
IAS Rambilas Yadav Case Disproportionate Assets
IAS Rambilas Yadav: 5 माह बाद विजिलेंस के सामने आई पत्नी कुसुम ने खोले ये राज, ये जमानत भी लाई साथ

देहरादून ब्यूरो- Disproportionate Assets मामले में पूर्व आईएएस रामविलास यादव को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है। Disproportionate Assets मामले में विजिलेंस ने कोर्ट में आरोप पत्र दाखिल किया है। जिसमें सामने आया है कि पूर्व आईएएस रामविलास ने तीन साल में 2600 फीसदी अधिक संपत्ति अर्जित की है। आय से अधिक संपत्ति के मामले में रामविलास यादव जेल में हैं और उनकी पत्नी कुसुम विलास के खिलाफ भी विजिलेंस मुकदमा दर्ज किया हुआ है।

Disproportionate Assets

Disproportionate Assets का ये है पूरा मामला

पूर्व आईएएस रामविलास यादव 2017 में उत्तराखंड आये। इससे पहले उनका अधिकतर कार्यकाल उत्तर प्रदेश में ही रहा। उत्तराखंड आने उन्हें समाज कल्याण विभाग की जिम्मेदारी दी गई थी। वहीं यूपी से आने के बाद यूपी सरकार ने उनके खिलाफ आय से अधिक संपत्ति की सिफारिश की थी। उत्तराखंड में भी 2022 में विजिलेंस ने उनके खिलाफ आय से अधिक संपत्ति का मुकदमा दर्ज किया। जब वे विजिलेंस के बुलाने पर नहीं आये तो विजिलेंस ने 23 जून को उन्हें गिरफ्तार कर दिया।

Disproportionate Assets ये आरोप पत्र दाखिल किया विजिलेंस ने

विजिलेंस ने कोर्ट में पूर्व आईएएस रामविलास यादव के खिलाफ 2500 पन्नों का एक आरोप पत्र दाखिल किया है। जिसमें कहा गया है कि रामविलास यादव ने तीन साल में 2600 फीसदी मतलब 27 गुना अधिक संपत्ति अर्जित की है। विजिलेंस के आरोप पत्र दाखिल करने के बाद कोर्ट इसे संज्ञान में लेकर उनके खिलाफ दर्ज आरोपों पर ट्रायल शुरू करेगा।

लखनऊ और देहरादून में है करोड़ों की संपत्ति

Disproportionate Assets मामले में आरोपी रामविलास यादव की लखनऊ और देहरादून में करोड़ों की संपत्ति है। लखनऊ के दिलकश विहार में करोड़ों की संपत्ति है तो कुर्सी रोड गुडंबा में एक स्कूल के संचालन के लिए उपयुक्त भूमि भई विवादित है। रामविलास यादव को देहरादून में रहते हुए पांच साल हुए लेकिन यहां उसने 8 संपत्तियां बना ली। ये संपत्तियां रिश्तेदारों के नाम पर दर्ज हैं। Disproportionate Assets मामले में अब उनकी पत्नी को भी विजिलेंस गिरफ्तार कर सकती है।

ये भी पढ़ें…

“Rohingya मुसलमानों को मुफ्त फ्लैट देना चाहती थी आम आदमी पार्टी”- Anurag Thakur