डाडा जलालपुर जा रहे काली सेना संस्थापक समेत 9 अरेस्ट, तंबू भी उखाड़े

0
176

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद पुलिस प्रशासन सख्त, इलाके के चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात

रुड़की/हरिद्वार, ब्यूरो। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद रुड़की के डाडा जलालपुर में होने वाली हिंदू महापंचायत पर जिला प्रशासन की सख्ती के बाद भी यहां दो धर्मों के बीच टकराव होने की संभावना को देखते हुए पुलिस प्रशासन सतर्क और मुस्तैद है। रोक के बावजूद भी डाडा जलालपुर महापंचायत में जाने पर स्वामी दिनेशानंद भारती और 8 अन्य लोगों को अरेस्ट किया गया है। इनमें से छह लोग मंगलवार देर शाम को अरेस्ट कर लिए गए थे। इनमें से तीन संतों की गिरफ्तारी आज बुधवार सुबह हुई है। इनमें तीन आश्रम के संत भी शामिल हैं। पुलिस ने काली सेना संस्थापक और शंकराचार्य परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामी आनंद स्वरूप को स्वामी दिनेशानंद के आश्रम में ही रोक लिया। जिसके बाद उन्‍हें गिरफ्तार कर लिया गया है।

santo ko roka

जानकारी के अनुसार स्वामी दिनेशानंद भारती हिंदू पंचायत के आयोजन पर रोक के बावजूद डाडा जलालपुर जाने की कोशिश कर रहे थे, पुलिस ने उन्हें किसी भी तरह की पंचायत न करने के निर्देश भी दिए। यह जानकारी स्वामी आनंद स्वरूप के आश्रम शांभवी धाम की ओर से दी गई है। शांभवी धाम भूपतवाला हरिद्वार के आत्मानंद महाराज और परमानंद महाराज को भी पुलिस ने हिरासत में लिया है।

Uttarakhand news bulletin | Uttarakhand samachar | 26 अप्रैल 2022

महापंचायत पर रोक लगाए जाने के बाद से पुलिस प्रशासन सतर्क है। 10 किलोमीटर के दायरे में पुलिसकर्मियों को तैनात कर दिया गया है। साथ ही पुलिस अधिकारी ग्रामीणों को लगातार समझाने में लगे हैं कि महापंचायत नहीं होगी, अमन और शांति बनाए रखें। डाडा जलालपुर गांव सहित अन्य आस-पास के गांवों में भी अन्य दिनों की तरह दिनचर्या जारी है। ग्रामीण अपने दैनिक कृषि कार्य में जुटे हुए हैं। डाडा जलालपुर, मानक मजरा, डाटा पट्टी, खेड़ी, शिकोहपुर और सिकरोड़ा समेत कई अन्य गांवों के मार्गों पर पुलिस पूरी सख्ती बरत रही है।यहां पर आने जाने वाले वाहनों की लगातार चेकिंग की जा रही है।

हिंदू महापंचायत को लेकर पुलिस की तरफ से जहां एक और सख्ती बरती गई है, वहीं स्वामी दिनेश आनंद भारती के संपर्क में रहने वाले आश्रमों पर पुलिस की नजर है। जिसमें रुड़की के टोडा एहतमाल स्थित स्वामी दिनेश आनंद का आश्रम, सुनहरा स्थित जीवनदीप आश्रम समेत श्यामपुर और हरिद्वार के करीब पांच आश्रमों पर पुलिस की नजर है। जहां पर खुफिया विभाग के लोग तैनात हैं। जीवनदीप आश्रम पर खुफिया विभाग की टीम लगाई गई है। हालांकि स्वामी यतींद्र आनंद गिरि महाराज आश्रम में नहीं हैं, वह लखनऊ गए हैं।

बता दें कि विगत मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट के रुख के बाद जिला प्रशासन ने महापंचायत पर रोक लगा दी थी। काली सेना के राज्य संयोजक दिनेशानंद भारती और उनके छह समर्थकों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया था। पुलिस ने महापंचायत के लिए गांव में लगाया जा रहा तंबू भी उखाड़ दिया था।