ये संकेत बताते हैं कि हनुमान जी आपसे हैं रुष्ट

0
3661

Bhagwan Shri Hanumanji: क्यों होते हैं बजरंगबली अपने भक्तों से रुष्ट?

Bhagwan Shri Hanumanji: हनुमान जी को संकटमोचन कहा जाता है, वो इसलिए क्योंकि बजरंगबली अपने भक्तों को सभी कष्टों से दूर रखते हैं, लेकिन ये भक्त भगवान हनुमान जी (Bhagwan Shri Hanumanji) के सच्चे भक्त होने चाहिए। यदी कोई व्यक्ति अपने आप को श्री हनुमान जी का सच्चा भक्त कहता है तो उसे सबसे पहले तो बाल ब्रह्मचार्य का पालन पूरी निष्ठा से करना होगा।

अपने आप को हनुमान भक्त कहने वाला व्यक्ति यदी ब्रह्मचार्य का पालन पूरी तरीके से नहीं करता है तो उसे भगवान हनुमान जी (Bhagwan Shri Hanumanji) का क्रोध भी झेलना पड़ता है और इस क्रोध का संकेत खुद बजरंगबली अपने भक्तों को देते हैं। क्या- क्या होते हैं वो संकेत आज आपको इस लेख में जानने को मिलेगें।

पहला संकेत होता है कि जब आप हनुमान जी (Bhagwan Shri Hanumanji) की बहुत उपसना करते हैं लेकिन बावजूद इसके आपके साथ बार बार बुरा हो रहा होता है, आपका नुकसान हो रहा है और आपका दुर्भाग्य आपका पीछा छोड़ने का नाम ही नहीं ले रहा है तो इसका मतलब है कि भगवान श्री हनुमान (Bhagwan Shri Hanumanji) आपसे रुष्ट है। वह सबकुछ देख रहे हैं कि आप कितने परेशान हैं लेकिन वो आपकी इसमें कोई मदद नहीं कर रहे हैं इसका साफ मतलब है कि भगवान हनुमान आपसे नाराज़ हैं।

अगर भगवान श्री हनुमान (Bhagwan Shri Hanumanji) आपसे रुष्ट हैं तो वो इसका संकेत आपको स्वप्न के माध्यम से भी देते हैं। अगर आपको सपने में वानर क्रोधित दिखे या फिर अगर सपने में आपके आस पास कई सारे वानर उछलते कूदते नज़र आएं तो इसका मतलब है कि भगवान श्री हनुमान (Bhagwan Shri Hanumanji) आपसे क्रोधित हैं।

ये भी पढ़ें:
Raj Rajeshwari Mandir
इस मंदिर में विदेशी भक्तों के लिए शुरु की गई पोस्ट ऑफिस की सुविधा

इसके बाद अगर सपने में आपको कोई वानर काट ले तो इसका भी मतलब ये है कि भगवान श्री हनुमान (Bhagwan Shri Hanumanji) आप से रुष्ट हैं और वो आपको पहले चेतावनी दे रहे हैं कि अपनी गलती को सुधारें।

इसके बाद अगर वास्तविक जीवन में भी आपके घर में या फिर आपके आस पास कई सारे वानर आ जाएं और आपका नुकसान करने लगे या फिर आपको काट लें तो इसका भी मतलब होता है कि भगवान श्री हनुमान (Bhagwan Shri Hanumanji) आपसे रुष्ट हैं।

इसके बाद अगर आप अपने सपने में बजरंगबली हनुमान जी (Bhagwan Shri Hanumanji) की प्रतिमा को क्रोधित रूप में दिखते हैं तो इसका मतलब है कि बजरंगबली आपसे उदासहीन है। वहीं अगर आप सपने में देखते हैं कि बजरंगबली जी के सामने आप हाथ जाड़ें खड़े हैं और उनके आगे प्रार्थना करते करते रो रहे हैं लेकिन बावजूद इसके बजरंगबली जी आपकी किसी भी प्रार्थना का जवाब नहीं दे रहे हैं तो इसका भी मतलब है कि भगवान श्री हनुमान (Bhagwan Shri Hanumanji) आपसे रुष्ट हैं और वह आपको संकेत दे रहे हैं कि यदी आप अपनी गलती को नहीं सुधारेगें तो आपका दुर्भाग्य जल्द ही शुरु हो जाएगा।

ये भी पढ़ें:
Curse to Agni
अग्नी के जलने के पीछे कोई वरदान नहीं बल्की है ये श्राप

इसके साथ ही अगर आप वास्तविक जीवन में श्री हनुमान जी (Bhagwan Shri Hanumanji) की पूजा कर रहे हैं, पाठ कर रहे हैं या फिर प्रभु श्री राम के नाम का जाप कर रहे हैं और ऐसा करते समय अगर आपकी पूजा बार बार बीच में खंडित होनी शुरु हो जाए, दीपक बुझना शुरु हो जाए या फिर राम के नाम का जाप करते समय माला टूट जाए तो ये इस ओर इशारा करता है कि कुछ बहुत गलत घटने वाला है और बजरंगबली आपको आपके कर्मों के लिए चेतावनी दे रहे हैं।

अब बात करते हैं कि आखिर क्यों भगवान श्री हनुमान जी (Bhagwan Shri Hanumanji) आपसे रुष्ट होते हैं। कई बार ऐसा होता है कि जाने अंजाने में या फिर जानबूझकर इंसान वो गलती कर बैठता है जो उसे कभी नहीं करनी चाहिए जिससे भगवान श्री हनुमान आपसे रुष्ट होते हैं।

भले ही भगवान श्री हनुमान (Bhagwan Shri Hanumanji) के भक्त आज अरबों की तादाद में हैं लेकिन इनमें से बहुत ही कम लोगों को ये मालूम है कि भगवान श्री हनुमान पूर्ण तरीके से अपने भक्तों द्वारा सातविकता का पालन करने की उम्मीद रखते हैं क्योंकि वह खुद भी पूर्ण रूप से बाल ब्रह्मचारी हैं।

भगवान श्री हनुमान (Bhagwan Shri Hanumanji) के भक्तों की सबसे बड़ी गलती ये होती है कि वह एक तरफ तो खुद को बजरंगबली का भक्त कहते हैं, हनुमान चालिसा पड़ते हैं, सुंदरकांड का पाठ करते हैं और फिर अगर इसके कुछ ही दिनों बाद ये लोग शराब पी लेगें और गुटखा खा लेगें तो ऐसे में भगवान श्री हनुमान (Bhagwan Shri Hanumanji) उनसे रुष्ट हो जाते हैं और फिर शुरु होता हैं इन लोगों का दर्भाग्य।

ये भी पढ़ें:
Ganga Mandir
यहां मंदिर की सीढ़ियों पर पत्थर मारने से आती है पानी की आवाज़

इसके साथ ही अगर आप ब्रह्मचार्य का पालन सही तरीके से नहीं करते हैं तो भी भगवान श्री हनुमान (Bhagwan Shri Hanumanji) आपसे रुष्ट होते हैं। यानी कि आप एक तरफ तो भगवान श्री हनुमान की पूजा कर रहे हैं और दूसरी ओर आप किसी महिला को गलत तरीके से देख रहे हैं तो भी इससे भगवान श्री हनुमान (Bhagwan Shri Hanumanji) अत्यंत क्रोधित होते हैं क्योंकि बाल ब्रह्मचारी होने के कारण भगवान श्री हनुमान (Bhagwan Shri Hanumanji) कहते हैं कि उनके भक्तों को सभी महिलाओं में या तो माता या फिर बहन दिखाई देनी चाहिए।

लेकिन अगर कोई हनुमान भक्त ग्रस्त जीवन में है तो उसके लिए कहा जाता है कि उसे अपने पत्नी के अलावा किसी भी पराई औरत को गंदी नज़रों से नहीं देखना चाहिए, उसे हर पराई औरत में माता या बहन दिखाई देनी चाहिए। अगर वो व्यक्ति अपनी पत्नी के अलावा किसी अन्य स्त्री के साथ संबंध बनाता है तो भगवान श्री हनुमान उस पर क्रोधित हो जाते हैं और बस उसी वक्त से उसका बुरा वक्त शुरु हो जाता है।

अगर आपसे कोई भी गलती जाने अनजाने में होती है तो भगवान श्री हनुमान (Bhagwan Shri Hanumanji) आपको क्षमा कर देते हैं लेकिन अगर ये गलती लगातार होती जाए या फिर जान बूझकर की जाए तो भगवान श्री हनुमान (Bhagwan Shri Hanumanji) आपसे रुष्ट हो जाते हैं और इसके बाद वो आपको सबसे पहले चेतावनी देगें और फिर आपको आपके कर्मों का फल देना शुरु करेंगे।

भगवान श्री हनुमान (Bhagwan Shri Hanumanji) द्वारा बार बार चेतावनी मिलने के बाद भी अगर कोई व्यक्ति नहीं समझता तो फिर भगवान श्री हनुमान (Bhagwan Shri Hanumanji) उस व्यक्ति से हमेशा हमेशा के लिए रुष्ट हो जाते हैं और फिर कभी उस व्यक्ति पर अपनी कृपा नहीं बरसाते। जिनसे भगवान हनुमान रुष्ट हो जाते हैं उनका काम बिगड़ना शुरु हो जाता है, कोई भी काम नहीं बनता है, स्वास्थ खराब होना शुरु हो जाता है, कर्जा चढ़ना शुरु हो जाता है।

ऐसे में भगवान श्री हनुमान (Bhagwan Shri Hanumanji) को मनाने के लिए सिर्फ एक ही रस्ता बचता है और वो है प्रभु श्री राम की पूजा करना। सबसे पहले आप हनुमान जी को अपना गुरु बनाए और फिर किसी भी एक समय में प्रभु श्री राम की पूजा करें और उनके नाम का जाप करें, ऐसा करने से भगवान श्री हनुमान (Bhagwan Shri Hanumanji) प्रसन्न होते हैं और वो अपनी कृपा आप पर बनाए रखते हैं।

ये भी पढ़ें:
Tulsi Ka Paudha
भूलकर भी तुलसी की पत्तियों को इस कारण न तोड़े, वरना हो सकता है अनर्थ

For latest news of Uttarakhand subscribe devbhominews.com