ब्राजील में 10 बंदरों को मौत के घाट उतारा, फिर WHO ने जारी किया ये बयान

0
641
Brazilians to stop killing monkeysWHO Warns Brazilians

विश्व स्वास्थ्य संगठन(डब्ल्यूएचओ) के द्वारा कहा गया है कि पूरी दुनिया में मंकीपॉक्स का जो प्रकोप चल रहा है। वह बंदरों से जुड़ा हुआ नहीं है। मंकीपॉक्स आने के बाद ब्राजील में बंदरों पर हमलें बढ़ते जा रहे है। जिसके बाद डब्लूएचओ का यह बयान सामने आया है। आपको बता दें कि मंकीपॉक्स से सबसे अधिक प्रभावित देश ब्राजील ही है , मंकीपॉक्स के कारण एक व्यक्ति की मौत भी हो चुकी है।

एक सप्ताह में 10 बंदरों को दिया जहर

मार्गरेट हैरिस जो कि विश्व स्वास्थ्य संगठन की प्रवक्ता है ,उनके द्वारा कहा गया कि इस बीमारी बंदरों कि वजह से नहीं फ़ैल रही है। उन्होंने कहा कि यह वायरस मनुष्यों के बीच फ़ैल रहा है। जानकारी मिल रही है कि ब्राजील देश के साओ पाउलो राज्य के साओ जोस डो रियो प्रेटो शहर में एक से भी कम सप्ताह में 10 बंदरों को जहर देकर मार दिया गया है।

अभी ट्रांसमिशन मनुष्य से मनुष्य तक ही सीमित

ब्राजील देश के जो अन्य हिस्से हैं वहां पर भी इसी तरह की घटनाएं सामने आ रही  हैं। हैरिस के द्वारा कहा गया है, जो मंकीपॉक्स वायरस है वह  से मनुष्यों में फैल रहा है। अभी तक यह ट्रांसमिशन मनुष्य से मनुष्य तक ही सीमित है। उन्होंने कहा कि “चिंता इस बारे में होनी चाहिए कि मानव आबादी इस वायरस को फैलने से रोकने के लिए क्या कर सकता है”?

ब्राजील, अमेरिका और कनाडा मंकीपॉक्स से सबसे ज्यादा प्रभावित

प्रवक्ता मार्गरेट हैरिस के द्वारा कहा गया है कि लोगों को किसी भी जानवर पर हमला नहीं करना चाहिए। उन्होंने बताया संक्रमित कोई भी व्यक्ति के द्वारा यह संक्रमण बढ़ सकता है। किसी भी जानवर या किसी भी इंसान पर इसके फैलाने का इल्ज़ाम नहीं लगाना चाहिए क्योंकि अगर आपने ऐसा किया तो इससे यह बीमारी फैलने की संभावनाएं और भी अधिक बढ़ जाएगी। पिछले हफ्ते पैन अमेरिकन हेल्थ ऑर्गनाइजेशन के द्वारा घोषित किया गया है कि ब्राजील, अमेरिका और कनाडा मंकीपॉक्स के प्रकोप से सबसे ज्यादा प्रभावित हैं, यहां पर 5,000 से अधिक मामले सामने आ चुके हैं।