भूतों का डर दिखाकर बाबा पर 9 साल तक दुष्कर्म का आरोप, दो बैंक मैनेजरों को भी परोसा!

0
231
  • महिला ने लगाई इंसाफ की गुहार, 9 साल दुष्कर्म के बाद एक बच्ची भी हुई पैदा
  • पैसा कमाने के लिए महिला को दो बैंक मैनेजरों के साथ भी हम बिस्तर करवाया

देहरादून (त्रिपुरारी मिश्रा): आज शनिवार को देहरादून में प्रेसवार्ता कर एक महिला ने एक बाबा पर आरोप लगाते हुए बताया कि वह 9 साल से उसके साथ दुष्कर्म करता रहा। महिला का कहना है कि बाबा परमानंद पुरी ने लगातार 9 सालों से रेप करते हुए 1 बच्ची भी पैदा कर दी। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि बाबा ने अपना आर्थिक लाभ लेने के लिए उसने बैंक ऑफ बड़ौदा के मैनेजर मानसिंह और राकेश मोहन गुप्ता के साथ मेरा बलात्कार करवाया। महिला का यह भी कहना है कि बाबा उसे भूत और चुड़ैलों का डर दिखाकर बिना कपड़ों के रखता था और लगातार दुष्कर्म करता रहा। इसके साथ ही उसकी बच्ची पर भी बुरी नजर डालता था। महिला को मारना पीटना बाबा की आम बातें हो गई थीं। जब महिला ने देखा कि बाबा उसकी बच्ची पर नजर डाल रहा है तब महिला ने विवश होकर पुलिस और शासन और प्रशासन से गुहार लगाई लेकिन अभी तक कोई सुनवाई नहीं हो रही है।

balatkari baba

महिला ने प्रेस कांफ्रेंस करते हुए बताया कि मैं एक बेटी भी हूँ और 4 वर्ष व 7 वर्ष की दो छोटी छोटी बेटियों की माँ भी हूँ और पिछले वर्ग से संबंध रखती हूँ। मॉ-बाप, सास ससुर कोई नही है मेरा, मैं और मेरी दो छोटी बेटियों के अलावा।

पिछले सात महीनों से अपनी और अपनी दोनो बेटियों की सुरक्षा के लिये पुलिस प्रशासन व सरकार से न्याय के लिये लगातार गुहार लगा रही हूँ, परन्तु आज तक कोई भी सुनवाई नही हुई और ना ही न्याय मिला। इंसाफ मिलना तो दूर न सुनवाई हुई और सिर्फ ये तीन कागज के टुकड़े हैं जो इंसाफ के नाम पर पुलिस ने उन्हें सौंपे हैं। उन्होंने बाबा और दोनों बैंक मैनेजरों पर उसे आगे कर लाखों रुपये के लोन लेने के साथ ही कई सनसनीखेज आरोप लगाए हैं। अब देखना होगा कि पुलिस-प्रशासन इतना कुछ होने के बाद सच्चाई की तह तक जाकर मामले की तफ्तीश कब तक करता है।

baba ka

महिला द्वारा आरोप लगाया गया था कि बाबा उसका 9 साल तक रेप किया, जिसे लेकर सीओ जूही मनराल ने कहा कि हम बाबा को पकड़ने के लिए टीम गठित किए हैं हम दबिश दे रहे हैं जल्दी बाबा पकड़ा जाएगा.

भूतों का डर दिखाकर बाबा पर 9 साल तक दुष्कर्म का आरोप, दो बैंक मैनेजरों को भी परोसा!