42 यात्रियों से भरी रोडवेज बस के हो गए ब्रेक फेल, मची चीख-पुकार

0
455
42 यात्रियों से भरी रोडवेज बस के हो गए ब्रेक फेल, मची चीख-पुकार

42 यात्रियों से भरी रोडवेज बस के हो गए ब्रेक फेल, मची चीख-पुकार

हादसे के बाद चालक ने दिया सूझबूझ का परिचय, पहाड़ी से टकरा कर बचाई सभी सवारों की जान, दो यात्रियों को आई गंभीर चोटें

देहरादून/चंपावत, ब्यूरो। 42 यात्रियों से भरी उत्तराखंड रोडवेज की बस के ब्रेक फेल होने से मौके पर चीख-पुकार मच गई। गनीमत यह रही कि बस चालक ने सूझबूझ का परिचय देते हुए बस को पहाड़ी की तरफ टक्कर मार दी। इस अफरा-तफरी के माहौल में कुछ यात्रियों को मामूली चोटें आई हैं जबकि दो यात्री गंभीर घायल बताए जा रहे हैं। चालक अगर सूझ-बूझ का परिचय न देता तो बस सड़क से गहरी खाई में गिर जाती और बहुत बड़ा हादसा हो सकता था।

42 यात्रियों से भरी रोडवेज बस के हो गए ब्रेक फेल, मची चीख-पुकार

जानकारी के अनुसार आज सोमवार सुबह करीब आठ बजे उत्तराखंड परिवहन निगम (उत्तराखंड रोडवेज) की बस संख्या यूके 07 पीए 2994 जैसे ही चंपावत जिले के बाराकोट ब्लाॅक के संतोला नामक जगह पहुंची तो अचानक बस के बे्रक लगने बंद हो गए। ब्रेक न लगने से बस की रफ्तार कम होने की बजाय बढ़ती जा रही थी। रोडवेज बस चालक बसंत बल्लभ जोशी ने इस दौरान धैर्य और सूझबूझ का परिचय दिया और बस को एक पहाड़ी की तरफ टकरा दिया। हालांकि इससे मौके पर चीख-पुकार मच गई, लेकिन करीब ड्राइवर-कंडक्टर समेत 44 लोगों की जिंदगियां बाल-बाल बच गईं। रोडवेज बस जैसे ही सड़क किनारे पहाड़ी से टकराई तो राधा देवी (42) पत्नी देवेंद्र सिंह निवासी पिथौरागढ़, मयंक नेगी (23) पुत्र सतपाल नेगी निवासी पौड़ी गढ़वाल गंभीर रूप से घायल हो गए। कई अन्य लोगों को भी हल्की-फुल्की चोटें आई हैं। सूचना के बाद मौके पर पहुंची 108 से दोनों गंभीर घायलों को उपचार के लिए सीएससी लोहाघाट लाया गया। घायलों के सिर में गंभीर चोट होने से प्राथमिक उपचार के बाद हायर सेंटर रेफर कर दिया गया। थाना अध्यक्ष जसवीर सिंह ने बताया घायलों को छोड़कर वाहन में सवार अन्य 40 यात्रियों को रोडवेज की दूसरी बस से पिथौरागढ के लिए रवाना कर दिया गया है।