377 जांबाज जेंटलमैन कैडेट IMA से पास आउट, नीरज को गोल्ड और मौसम को स्वार्ड ऑफ ऑनर

0
380
377 जांबाज जेंटलमैन कैडेट IMA से पास आउट

देहरादून, ब्यूरो। आज शनिवार 11 जून को देश और आठ मित्र देश की सेना में 377 जांबाज जेंटलमैन कैडेट सम्मिलित हो चुके हैं। इनमें 89 जेंटलमैन कैडेट आठ मित्र देशों के पास हुए। भारतीय सेना की दक्षिण पश्चिमी कमान के जनरल आफिसर कमांडिंग इन चीफ ले. जनरल अमरदीप सिंह भिंडर ने रिव्यूइंग आफिसर के तौर पर परेड में सम्मिलित हुए। लंबे समय से या फिर कहें कि कई दशक से वीरभूमि उत्तराखंड के सबसे ज्यादा सैन्य अफसर इंडियन मिलिट्री एकेडमी (आईएमए) से पासआउट होते रहे हैं। इस बार भी उत्तराखंड के अफसर सबसे अधिक थे। ऊधमसिंहनगर उत्तराखंड के नीरज सिंह पपोला को स्वर्ण पदक जबकि मौसम वत्स को स्वार्ड ऑफ ऑनर से नवाजा गया। पासिंग आउट परेड के बाद 377 जेंटलमैन कैडेट देश-विदेश की सेना की हिस्सा बन गए। इनमें 288 युवा सैन्य अधिकारी भारतीय थलसेना को मिले। जबकि 89 युवा सैन्य अधिकारी आठ मित्र देशों अफगानिस्तान, भूटान, किर्गिस्तान, मालदीव, नेपाल, श्रीलंका, तजाकिस्तान व तंजानिया की सेना का हिस्सा बने।

377 जांबाज जेंटलमैन कैडेट IMA से पास आउट

बता दें कि आज सुबह 6ः30 बजे मार्कर्स काॅल के साथ ही परेड का आगाज हुआ। इसके बाद ड्रिल स्क्वायर पर सभी अफसरों ने अपनी-अपनी जगह ली। 6ः45 बजे एडवांस काॅल के साथ ही कदम से कदम बढ़ाते हुए देश और विदेश के भावी सैन्य अफसर परेड के लिए पहुंचे। इस दौरान रिब्यूइंग अफसर लेफ्टिनेंट जनरल अमरदीप सिंह भिंडर मौके पर पहुंचे और परेड का निरीक्षण किया। निरीक्षण अधिकारी ने कैडेट्स को ओवरआल बेस्ट परफॉर्मेंस और अन्य उत्कृष्ट सम्मान से नवाजा गया। बिहार के समस्तीपुर निवासी मौसम वत्स को स्‍वार्ड आफ आनर से नवाजा गया। दूसरी ओर उत्तराखंड के ऊधमसिंहनगर निवासी नीरज सिंह पपोला को स्वर्ण, मौसम वत्स को रजत और मंडी हिमाचल प्रदेश के केतन पटियाल को कांस्य पदक मिला। दक्षिण दिल्ली के दिगांत गर्ग ने सिल्वर मेडल (टीजी) हासिल किया। भूटान के तेनजिन नामगे सर्वश्रेष्ठ विदेशी कैडेट चुने गए।

निरीक्षण अधिकारी लेफ्टिनेंट जनरल अमरदीप सिंह भिंडर ने कैडेट्स को ओवरआल बेस्ट परफॉर्मेंस और अन्य उत्कृष्ट सम्मान से नवाजा गया। पासिंग आउट परेड के बाद 377 जेंटलमैन कैडेट देश-विदेश की सेना की हिस्सा बन गए। इनमें 288 युवा सैन्य अधिकारी भारतीय थलसेना को मिले। जबकि 89 युवा सैन्य अधिकारी आठ मित्र देशों अफगानिस्तान, भूटान, किर्गिस्तान, मालदीव, नेपाल, श्रीलंका, तजाकिस्तान व तंजानिया की सेना का हिस्सा बने। समस्तीपुर (बिहार) के मौसम वत्स को स्‍वार्ड आफ आनर से नवाजा गया, जबकि ऊधमसिंहनगर उत्तराखंड के नीरज सिंह पपोला को स्वर्ण, मौसम वत्स को रजत व मंडी हिमाचल प्रदेश के केतन पटियाल को कांस्य पदक मिला। दक्षिण दिल्ली के दिगांत गर्ग ने सिल्वर मेडल (टीजी) हासिल किया। भूटान के तेनजिन नामगे सर्वश्रेष्ठ विदेशी कैडेट चुने गए।