विपक्ष में दरार, नितीश नहीं हैं पसंदीदा उम्मीदवार, फिर किस के सहारे होगी नैया पार

0
247
विपक्ष में तकरार

बिहार में सियासी हलचल बढ़ते ही और BJP-JD[U] गठबंधन टूटते ही एक नयी हलचल शुरू हो गई है। राष्ट्रीय पटल पर नितीश कुमार को विपक्ष ने एकाएक प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बना कर पेश किया है ,जिसे प्रमुख रूप से अखिलेश यादव और ममता बनर्जी न नकार दिया है। एक ओर जहां अखिलेश यादव कहते हैं की प्रधानमंत्री उत्तर प्रदेश से ही होना चाहिए और भाजपा को रोकने के लिए उत्तर प्रदेश की अहम् भूमिका होगी और दूसरी तरफ पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने खुद को भी प्रधानमंत्री पद का प्रबल उम्मीदवार माना है।
बिहार में हुए बड़े सियासी उलटफेर के बाद अब 2024 के लोकसभा चुनाव को लेकर चर्चाएं तेज हो गयी हैं। कहा जा रहा है कि विपक्ष की ओर से नितीश कुमार 2024 में प्रधानमंत्री पद का चेहरा हो सकते हैं ,यही नहीं शरद यादव समेत कई नेता इस बात को लेकर दावे भी कर रहे हैं। इस बीच समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बड़ा बयान दिया है और इशारों -इशारों में इंकार करते नजर आये।
अखिलेश ने यूपी की भूमिका को बताया सबसे अहम्
अखिलेश यादव ने आगे कहा की बीजेपी का असली मुकाबला यूपी में होगा ,इसलिए प्रधानमंत्री का दावेदार भी यहीं से होना चाहिए। उन्होंने कहा की हमारे सामने बड़ी चुनौती बीजेपी को रोकने की है। बीजेपी को अगर रोका जा सकता है तो उत्तर प्रदेश से ही रोका जा सकता है। आगे अखिलेश कहते हैं की उत्तर प्रदेश और बिहार को बीजेपी को रोकने में अहम् भूमिका निभानी होगी।
ममता दीदी भी है प्रबल दावेदार
आज ममता बनर्जी ने भी बातों- बातों में खुद को प्रधानमंत्री का दावेदार बताते हुए ,नीतीश की दावेदारी पर सवाल उठा दिया है। देखना होगा की विपक्ष इस तरह से आपस में ही सहमत नहीं हो पा रहा तो आगे बीजेपी का मुकाबला 2024 में कैसे करेगा। वहीं दूसरी तरफ बीजेपी पूरी मजबूती से विपक्ष की एकजुटता पर सवाल उठाता रहा है।